Pages

Friday, June 3, 2011

पतंजलि के संत रामदेव तुने कर दिया कमाल

पतंजलि के संत रामदेव तुने कर दिया कमाल
फिरंगी भाषा से भारत को आजादी दिलायी रामदेव ने

भले ही 4 जून की रात को मध्य रात्रि में भूखे प्यासे सो रहे हजारों देशभक्तों को अपनी पुलिसिया दमन से खदेड़ कर चैन की सांस ले रही हो परन्तु मनमोहन सिंह सरकार के इस पुलिसिये दमन ने कांग्रेस को देश की आम जनता की नजरों में पूरी तरह से गिरा दिया। परन्तु इसके बाबजूद सरकार के साथ जो समझोता बाबा रामदेव व सरकार के बीच में हुआ था उससे देश की लोकशाही एक प्रकार से मजबूत ही हुई थी। उसी महत्वपूर्ण उपलब्धी को देख कर मैने यहां पर यह लेख लिखा था। इस पावन भावना पर जो देश की लोकशाही को मजबूत व राष्ट्र के विश्व गुरू के रूप में फिर से स्थापित करने में सफल होने वाले महत्वपूर्ण कदम
जहां फिरंगी हुक्मरानों से देश को आजादी महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय जनमानस ने हासिल की। वहीं आज दूसरी आजादी ( फिरंगी भाषा अंग्रजी की दासता से भारतीय जनमानस को) बाबा रामदेव ने भी हासिल एक प्रकार से कर ही ली है। वहीं अमेरिका सहित पूरा विश्व जनसमुदाय यह देख कर हैरान है कि जहां लीबिया, अरब देशों सहित अनैकों जगह हो रहे हिंसक जनसंघर्ष के बजाय भारत में एक पातंजलि के संत की अगुवायी में शस्त्र व बिना तोड़ फोड व हिंसा के मात्र तपोबल व जनबल के बल कर पूरी सरकार को अपनी चरणों में दण्डवत झुका रहा है। सवाल यह है कि अब सरकार की अग्नि परीक्षा है कि वह बाबा रामदेव के साथ हुई वार्ता में स्वीकार की गयी बातों को देश में लागू करते हैं या फिरंगी गुलामी का बदनुमा दाग देश के माथे पर लगा कर देशद्रोश करेंगे। सवाल बाबा के कारनामों का नहीं सवाल यह है कि बाबा अगर गुनाहगार है तो अब तक सरकार ने उन्हें क्यों छोडा था।
अब तो साफ लगता है कि सरकार उनको भ्रष्टाचार व विदेशों में जमें काला धन को वापस लाने से की मांग करने का सबक सिखाना चाहती है। सरकार की इसी कार्यवाही से वह पूरी देश की जनता की नजरों में पूरी तरह से गिर चूकी है।
दे दी हमें आजादी बिना खटक बिना ढाल,
साबरमती के संत तुने कर दिया कमाल।
मुझ जैसे आजादी के बाद इस देह में अवतरित हुए आम भारतीयों को उपरोक्त गीत को गाने पर विश्वास ही नहीं होता था कि कभी गांधी जी ने सचमुच आजादी हासिल करने के लिए आम भारतीय जनमानस को इतना उद्देलित किया हो। परन्तु अब भ्रष्टाचार को मिटाने व विदेशों में जमा हुए काला धन को देश में वापस लाने की मांग को लेकर 4 जून से दिल्ली के रामलीला मैदान आमरण अनशन करने की भीष्म प्रतिज्ञा से ही जहां पूरा देश ही आंदोलित व उद्देलित हुई है। देश के लाखों लोग पूरे देश के कोने कोने से बाबा रामदेव के आंदोलन में भागीदारी निभाने के लिए जिस प्रकार से उमड़ रहे हैं उससे भयभीत हो कर देश की सरकार जिस प्रकार सहमी हुई हैं और उनकी अधिकांश मांगों को मानने के लिए तैयार है। इस अचंम्भित करने वाले ऐतिहासिक संघर्ष व अकल्पनीय जन शैलाब को गांधी के समान ही भारतीय संस्कृति के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले चंद वस्त्र पहनने वाले बाबा रामदेव के आवाहान पर भारत को भ्रष्टाचार के कुशासन से पतन के गर्त में धकेलने वाले हुक्मरानों को अपनी मांगों को स्वीकार करने के लिए मजबूर करते देख कर ‘ साबरमती के संत के तर्ज पर ही पतंजलि के संत रामदेव जी तुमने कर दिया कमाल’ का गान स्वयं स्फूर्त ही मानस पटल पर छाने लगा। आज इस घटना से सदियों से भारतीय जनमानस में अमिट विश्वास की भांति भगवान श्री कृष्ण के अमर वचन ‘संभवामि युगे-युगे’ को साकार होते देख कर भगवान श्रीकृष्ण को शतः शतः नमन् करता हॅू।

4 comments:

  1. jai shri krishna....bharat me ram raj isthpit ho

    ReplyDelete
  2. शब्द पुष्टिकरण हटा दें तो टिप्पणी करने में आसानी होगी ..धन्यवाद
    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो NO करें ..सेव करें ..बस हो गया

    ReplyDelete
  3. सही कहा आपने बस ये भ्रष्ट बीजेपी आंदोलन को दूषित न करे

    ReplyDelete