Posts

Showing posts from May, 2011

-इंदिरा नहीं, देश व कांग्रेस के गुनाहगार है राव व मनमोहन

-इंदिरा नहीं, देश व कांग्रेस के गुनाहगार है राव व मनमोहन
-इंदिरा गांधी पर अगुली उठाने के कारण सोनिया व प्रणव इस्तीफा दें
नई दिल्ली(प्याउ)। कांग्रेस की 125 वीं साल गिरह पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता प्रणव मुखर्जी के सम्पादन में जिस कांग्रेसी पुस्तक में कांग्रेस को कमजोर करने के लिए इंदिरा गांधी को गुनाहगार माना है, उस किताब का यह आरोप देश विदेश के करोड़ों की संख्या में आम समर्पित कांग्रेसियों के गले ही नहीं उतर रही है। आम कांग्रेसी इस बात से हैरान है कि जिस इंदिरा गांधी के राष्ट्रहित व आम जनमानस के कार्यो की दुहाई दे कर वर्तमान सत्तांध कांग्रेसी देश की सत्ता में काबिज है आज बेशर्मो की तरह उसी इंदिरा गांधी को कटघरे में रखने की धृष्ठता कोई कांग्रेसी सरकार कैसे कर सकती है। आम कांग्रेसी कार्यकत्र्ताओं की नहीं देश की आम जनमानस की भी यह भावना है कि इंदिरा गांधी ने भले ही अपने राजनैतिक विरोधियों को पछाड़ने के लिए कुछ भी किया हो परन्तु उन्होंने कभी देश व आम जनता के हित से किसी भी कीमत पर खिलवाड़ नहीं होने दिया। जबकि आज देश की स्थिति इतनी शर्मनाक है कि देश में चारों तरफ मंहगाई, भ्रष्टाचार व आतंक की …

-काश ममता बनर्जी से सबक लेते देश को बर्बाद करने वाले राजनेता

-काश ममता बनर्जी से सबक लेते देश को बर्बाद करने वाले राजनेता/
-कार्यालय के नवीनीकरण की लागत चुकायी खुद ममता ने/

‘मेरे कक्ष और बगल के कई कमरों में चित्र लगाने, आंतरिक साज-सज्जा तथा फर्नीचर खरीदने पर लगभग दो लाख रुपये खर्च आए। मैंने निजी खाते से इस राशि के चेक राज्य के मुख्य सचिव (समर घोष) को सौंप दिए हैं। राज्य चूंकि गंभीर वित्तीय संकट के दौर से गुजर रहा है, इसलिए मैं नहीं चाहती कि मेरे कक्ष के नवीनीकरण पर आया खर्च सरकार वहन करे। यह दो टूक अनुकरणीय बात तीन दषक से अधिक समय पर बंगाल की सत्ता पर काबिज वाम मोर्चा सरकार को अपदस्थ करने वाली ममता बर्नजी ने मुख्यमंत्री बनने के 10 दिन बाद बनर्जी 30 मई को सोमवार को पहली बार अपने नवीनीगत कक्ष में बैठने पर कही। हालांकि इस कक्ष के नवीनकरण का कार्य पिछले कई दिनों से चल रहा था और आधिकारिक तौर पर नवीनीकरण कार्य कराने की जिम्मेदारी लोक निर्माण विभाग की है। इसके बाबजूद ममता बनर्जी ने ऐसा कार्य करके देष के संसाधनों को अपने निवास व कार्यालय के लिए पानी की तरह बहा कर बर्बाद करने वाले नेताओं के लिए एक करारा जवाब दिया। मैने दिल्ली में मंत्रियों व सांसदों …

-रामदेव के जनांदोलन से सहमी मनमोहन सरकार

-रामदेव के जनांदोलन से सहमी मनमोहन सरकार
-रामदेव के आंदोलन को कमजोर करने के लिए अण्णा हजारे को भी आंदोलन के लिए मजबूर कर रही है सरकार
-लोकपाल के दायरे में प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्रालय व न्यायाधीशों को रखने से पलटी सरकार
/
योगगुरू से देष को भ्रश्टाचार मुक्त करने के देष व्यापी जनांदोलन चलाने वाले बाबा रामदेव के 4 जून को होने वाले आमरण अनषन से लगता है देष को अपने कुषासन से मंहगाई, भ्रश्टाचार व आतंक के गर्त में धकेलने वाली मनमोहनी सरकार बुरी तरह से भयभीत हो गयी है। वह अब बाबा रामदेव के अनषन की धार कमजोर करने के लिए अण्णा हजारे को भी भ्रश्टाचार के मुद्दे पर समान्तर आंदोलन चलाने के लिए मजबूर कर रही है। सरकार कीरणनीति के तहत भ्रश्टाचार के खिलाफ इन दोनों सेना पतियों की आपसी द्वंद में यह जनांदोलन भी दम तोड़ कर रह जाय। इसी रणनीति के तहत सरकार ने यकायक अपने पक्ष से पलटी मारते हुए प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्रालय व उच्चत्तम न्यायपालिका को प्रस्तावित लोकपाल के दायरे से बाहर रखने की मंषा जग जाहिर की। सरकार को इस बात का अंदाज है कि इन तीना बातों के न मानने से अण्णा हजारे मजबूरी में आंदोलन करेंगे, यही सर…

रामदेव के जनांदोलन से सहमी मनमोहन सरकार

-रामदेव के जनांदोलन से सहमी मनमोहन सरकार/
-रामदेव के आंदोलन को कमजोर करने के लिए अण्णा हजारे को भी आंदोलन के लिए मजबूर कर रही है सरकार/
-लोकपाल के दायरे में प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्रालय व न्यायाधीशों को रखने से पलटी सरकार/

योगगुरू से देष को भ्रश्टाचार मुक्त करने के देष व्यापी जनांदोलन चलाने वाले बाबा रामदेव के 4 जून को होने वाले आमरण अनषन से लगता है देष को अपने कुषासन से मंहगाई, भ्रश्टाचार व आतंक के गर्त में धकेलने वाली मनमोहनी सरकार बुरी तरह से भयभीत हो गयी है। वह अब बाबा रामदेव के अनषन की धार कमजोर करने के लिए अण्णा हजारे को भी भ्रश्टाचार के मुद्दे पर समान्तर आंदोलन चलाने के लिए मजबूर कर रही है। सरकार कीरणनीति के तहत भ्रश्टाचार के खिलाफ इन दोनों सेना पतियों की आपसी द्वंद में यह जनांदोलन भी दम तोड़ कर रह जाय। इसी रणनीति के तहत सरकार ने यकायक अपने पक्ष से पलटी मारते हुए प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्रालय व उच्चत्तम न्यायपालिका को प्रस्तावित लोकपाल के दायरे से बाहर रखने की मंषा जग जाहिर की। सरकार को इस बात का अंदाज है कि इन तीना बातों के न मानने से अण्णा हजारे मजबूरी में आंदोलन करेंगे, यही …

भगवान राम के नहीं अपितु निषंक की षरण में है भाजपा- संघ

भगवान राम के नहीं अपितु निषंक की षरण में है भाजपा- संघ/
अपने निहित स्वार्थो के लिए भाजपा का बेडा गर्क करने पर तुले हैं गड़करी व आडवाणी

एक समय था जब भाजपा व उसकी मातृ संस्था देष की जनता को भ्रश्टाचार रहित सुषासन व रामराज्य स्थापित करने के सपने देष की जनता को दिखाते थे। आज समय है कि भाजपा व संघ के नेता भारतीय संस्कृति की उदगम स्थली देवभूमि उत्तराखण्ड में वर्तमान में आसीन भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री रमेष पोखरियाल की षरण में है। हाई कोर्ट से लेकर सर्वोच्च न्यायालय में निषंक सरकार के भ्रश्टाचार के मामले चल रहे हैं, प्रदेष के वरिश्ठ व जनाधार वाले पूर्व मुख्यमंत्री भगतसिंह कोष्यारी व भुवनचंद खंडूडी लम्बे समय से भाजपा हाईकमान से निरंतर इन भ्रश्टाचार आदि मामलों से जनता की नजरों में पूरी तरह से बेनकाब हो चूके रमेष पोखरियाल निषंक को तत्काल बदलने की मांग कर रहे हैं। परन्तु क्या मजाल की रामराज्य व सुषासन की बात करने वाली भाजपा व संघ किसी भी कीमत पर निषंक को हटाने के लिए तैयार ही नहीं है। पार्टी जाय भाड़ में, नैतिक मूल्य जाय भाड़ में परन्तु आला नेताओं आडवाणी, गडकरी व थावर चंद गहलोत की नाक व हितों पर…

dharam ke nam par sabhi muslmano ko gali dene wale kabhi insan nahi ho sakte

dharam ke nam par sabhi muslmano ko gali dene wale kabhi insan nahi ho sakte

dharam ke nam par sabhi muslmano ko gali dene wale kabhi insan nahi ho sakte, bhartiya nahi ho sakte, hindu nahi ho sakte, Dharam or jati or chhetra or bhasha or gender ke nam par achha or bura nahi hota. Bhartiya Itihas gawah hai, jay chand, mansingh, atal or manmohan to hindu hain, shahid bhagat singh ke sath fanshi par chadhne wala bhi ek dharam se mushlman hi tha, pak ke sath udha main patant tanko ko dhwath karne wala capt hamid bhi ek muslman tha, bharat pak ka bantwara karne ke khilap aawaj uthane wala mollana abdul aajad or simant gandhi bhi ek musalman rahe, or bharat ko maha shakti banane wale Dr abdul Kalam bhi dharam se musalman hi hai. ye sab un rajnetawon se badhkar bhartiya or nek insan hain jinhone kaha tha ram lala hum aate hain mandir wahin banayenge, soghandh ram ki khate hain mandir wahin banayenge, or jese hi rajsata mili or kahne lage, mandir banana humare agende main nahi hai. www.rawat…

अन्ना हजारे की 1 जून कोे उत्तराखण्ड यात्रा से सहमी भ्रश्टाचारों में आकंठ घिरी सरकार

अन्ना हजारे की 1 जून कोे उत्तराखण्ड यात्रा से सहमी भ्रश्टाचारों में आकंठ घिरी सरकार/
खंडूडी व निषंक में सत्ता संघर्श तेज

एक जून को अन्ना हजारे की दून यात्रा का स्वागत करते हुए भाजपाइयों ने कहा कि हजारे के अभियान को समर्थन दिया जाएगा। जिस समय 24 मई को खंडूडी के यहां पर बैठक हो रही थी उसी समय प्रदेष के मुख्यमंत्री निषंक भी अपने मंत्रिमण्डल की बैठक ले रहे थे। इस पर कई कायस लगा रहे हैं कि मुख्यमंत्री ने अपने मंत्रियों को खंडूडी खेमें में जाने से रोकने के लिए यह कार्य किया। बात में कितनी सच्चाई हैं यह तो मुख्यमंत्री ही जाने परन्तु निषंक के राजनैतिक दावों से न केवल प्रदेष के वरिश्ठ भाजपा नेताओं के अपितु कांग्रेस सहित पूरी व्यवस्था व पत्रकारिता पर अपना मजबूत षिकंजा जकड़ लिया है। इसे देख कर लोग कह रहे हैं कि निषंक के मोहपाष में भाजपा संघ का आला नेतृत्व ही नहीं अपितु कांग्रेस के दिल्ली मठाधीष भी बंध चूके है। इसी कारण कांग्रेस ी जहां बड़े जोर षोर से भ्रश्टाचार के मुद्दे पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री को आये दिन घेरते हैं परन्तु उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री को एक प्रकार से अभय दान सा दे रहे है। उत्…

चमत्कारी कोठुलेश्वर महादेव में भगवान हनुमान की मूति स्थापित

चमत्कारी कोठुलेश्वर महादेव में भगवान हनुमान की मूति स्थापित
नारायणबगड़(ंप्याउ)। भगवान शिव के चमत्कारी व प्राकृतिक कोठुलेश्वर महादेव में एकादश रूद्र के रूप में विश्व में वंदित भगवान हनुमान की मूर्ति की स्थापना मंगलवार 24 मई को पूरे विधि विधान से की गयी। इस अवसर पर सीमान्त जनपद चमोली के इस बदरीनाथ क्षेत्र की सीमा में स्थित नारायण बगड़ विकास खण्ड के आदर्श गांव कोठुली के कोठुलेश्वर महादेव मंदिर परिसर में ही भगवान हनुमान का मंदिर बनाय गया। चमत्कारी कोठुलेश्वर महादेव के श्रीमहंत खीमा भारती जी महाराज ने बताया कि 23 मई से हनुमान जी की पावन मूर्ति की स्थापना हेतु यहां पर विधिवत पूजा अर्चना हुई। 25 मई को भगवान हनुमान की पावन मूर्ति को पूरे विधि विधान से यहां पर स्थापित की गयी। इसमें कड़ाकोट व कपीरी पट्टियों के सेकड़ों भक्त भगवान कोठुलेश्वर महादेव में भगवान शिव व भगवान हनुमान के आर्शीवाद लेने यहां पंहुचे। 25 मई को ही यहां पर विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया। इसमें बड़ी संख्या में कोठुली, कोथरा, सुनभी, भटियाणा, चिरखून, कोट, सैंज, कफातीर व पाट्टियों के ग्रामीणों के अलावा इस आयोजन के मुख्य यजमान …

भारत में आतंक अमेरिका के इशारे पर फेला रहा था पाक व हेडली

भारत में आतंक अमेरिका के इशारे पर फेला रहा था पाक व हेडली
मुम्बई हमलों की साजिश रचने के लिए दोषी समझे जाने वाले अमेरिका में बद तहब्बुर राणा व डेविड हेडली को अमेरिकी एटार्नी सराह स्ट्रीकर द्वारा शिकागो की अदालत में पाकिस्तान की खुफिया ऐजेन्सी आई एस आई से सम्बंध होने की बात को जिस तरह से भारतीय मीडिया में प्रचार किया जा रहा है। वह भारत को आतंक की भट्टी में धकेलने वाले असली गुनाहगार को बचाने में ही मददगार साबित हो रहा है। असल में भारत में आतंक की तबाही का असली सूत्र धार न तो आतंकी है व नहीं पाक, दोनों ही अमेरिका के इशारे पर भारत ही नहीं अफगानिस्तान में भी आतंक को अंजाम दे रहे है। पाकिस्तान की सेना, नोकरशाह, सत्तासीन ही नहीं आतंकी संगठन भी अमेरिका के प्यादे मात्र है। इसका खुलाशा हेडली को अमेरिका द्वारा भारत को न सोंपने से ही हो जाता है। क्योंकि जिस हेडली को आईएसआई का ऐजेन्ट बताया जा रहा है वह हकीकत में अमेरिका का ही ऐजेन्ट है। वह आईएसआई में कार्यरत अमेरिका के सीआईए का ऐजेन्ट है। इसीलिए अमेरिका ने अपने ऐजेन्ट को किसी भी हालत में न तो मुम्बई हमलों का षडयंत्रकारी होने के बाबजूद न भारत को सौ…

असुरक्षित पाक की परमाणु शक्ति को तत्काल नष्ट करे अमेरिका

आतंकी पाक की परमाणु शक्ति को तत्काल नष्ट करे अमेरिका
-कराची नौ सेनिक अड्डे पर हुए आतंकी हमले ने साबित किया कि पाक के परमाणु हथियार भी असुरक्षित हैं

रविवार 22 मई को तालिबानी आतंकियों द्वारा पाकिस्तान व अमेरिका द्वारा अपने आका ओसमा बिन लादेन की हत्या के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए उसका बदला लेने के लिए पाकिस्तान के तटीय शहर कराची स्थित नौसेना के मेहरान हवाई ठिकाने पर विनाशकारी हमला किया। इस हमले से न केवल पाकिस्तानी हुक्मरान अपितु अमेरिका सहित भारतीय सुरक्षा ऐजेन्सियां सहम सी गयी।इस हमले से एक बात साफ हो गयी कि पाकिस्तान के परमाणु अस्त्र अब सुरक्षित नहीं हैं उन पर कभी भी आतंकी कब्जा कर सकते है। इसलिए अमेरिका जिसने पाकिस्तान को आणविक अस्त्रों से सुसज्जित व विश्व को तबाह करने वाला आतंकी देश बनाया, उसका अब सर्वोच्च दायित्व बनता है कि वह अविलम्ब पाकिस्तानी परमाणु अस्त्रों को कब्जा कर लादेन की तरह तबाह कर दे। यही अमेरिका के पाक को विश्व के लिए सबसे बड़ा खतरनाक देश बनाने की अक्षम्य भूल की प्रायश्चित होगा। लादेन की हत्या के बाद जिस प्रकार से लोगों को यह भ्रम हो गया था कि अमेरिका ने आतंकवाद की …

अनुदान ने लगाया समाजवाद की प्राणवायु श्रमदान पर ग्रहण

अनुदान ने लगाया समाजवाद की प्राणवायु श्रमदान पर ग्रहण
गैरसैंण राजधानी श्रमदान से बनाने को तैयार हैं उत्तराखण्डी

उत्तराखण्ड की सामाजिक सहभागिता जैसी अनुकरणी परंपरा पर आज सरकारी कोष से मिलने वाले अनुदान ने एक प्रकार से ग्रहण ही लगा दिया है। लम्बे समय से मेरे मन में इस विषय पर एक गहरी टिश थी। इसको हवा दिया उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री राज्य सभा सांसद भगत सिंह कोश्यारी ने यह कह कर कि अनुदान ने श्रमदान व्यवस्था को समाप्त कर दिया है। ऐसे में किसान व पशुपालक पूरे मनोयोग से दुग्ध क्षेत्र में नई श्वेत क्रांति का सूत्रपात करें। उत्तराखण्ड के जमीनी नेताओं में अग्रणी जननेता श्री कोश्यारी बेतालघाट के ग्राम मझेड़ा में उत्तराखंड सहकारी डेयरी फेडरेशन के तत्वावधान में चार करोड़ की लागत से बनने वाले प्रशिक्षण संस्थान के शिलान्यास समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए अपनी इस वेदना को भले ही मजाक में कहा हो परन्तु यह हकीकत है कि आज इस सरकारी अनुदान को हड़ने की प्रवृति ने उत्तराखण्ड में शताब्दियों से सच्चे समाजवाद को संचालित करने वाले प्राणवायु श्रमदान को नष्ट कर दिया। इस समारोह में श्री…

शराब कबाब की पार्टी में नहीं गरीब बच्चों की पढ़ाई में खर्च करें समाज

शराब कबाब की पार्टी में नहीं गरीब बच्चों की पढ़ाई में खर्च करें समाज
पौड़ी(प्याउ)। ‘हमें जन्म दिन, साल गिरह आदि आयोजनों में अपने धन को शराब कबाब की पार्टियों में संसाधनों को बर्बाद करने के बजाय अपने क्षेत्र में गरीब जरूरत मंद बच्चों को कापी, फीस, गणवेश, इत्यादि रचनात्मक कार्यो में हाथ बढ़ा कर मनाना चाहिए। ’ यह बेहद ही सराहनीय बात, तेजी से रचनात्मक कार्यो में जुटा म्यर उत्तराखण्ड के महासचिव सुदर्शन सिंह रावत ने प्यारा उत्तराखण्ड से फेस बुक में में उनके द्वारा इसी सप्ताह अपने प्रवास के दौरान अपनी शादी की साल गिरह पर अपने जनपद पौड़ी के धुमाकोट क्षेत्र स्थित पटोटियाडांडा इंटर कालेज में गरीब बच्चों को कापी पेन दि वितरित करके मनाया। श्री रावत ने बताया कि सरकार की उदासीनता से आज इस इंटर कालेज में केवल आधा दर्जन ही अध्यापक हैं, जिससे यहां पर अध्ययनरत सैकड़ों बच्चों के भविष्य के साथ गंभीर खिलवाड़ किया जा रहा है। दिल्ली में एक प्रतिष्ठित बहु राष्ट्रीय कम्पनी में कार्यरत सुदर्शन रावत ने कहा कि उन्हें गर्व है कि इसी पटोटियाडांडा स्कूल से शिक्षा ग्रहण कर इस वर्ष देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्…

केवल रूद्रनाथ में ही होती है भगवान शिव के मुख की पूजा

केवल रूद्रनाथ में ही होती है भगवान शिव के मुख की पूजा
गोपेश्वर(प्याउ)। सारे विश्व में जहां प्रायः भगवान शिव की लिंग रूप में पूजा होती है वहीं पंच केदारों में एक भगवान रूद्रनाथ में ही केवल भगवान शिव की मुख की पूजा होती है।ऐसी मान्यता है कि यहां पर पाडवों को भगवान शिव के मुखारबिन्द के दर्शन दिये थे। इस पावन तीर्थ रूद्रनाथ सड़क से 18 किलोमीटर की दूरी पर समुद्रतल से 2286 मीटर उंचाई पर लालमाटी पर्वत पर स्थित है। शीतकाल के बाद चारों धामों के कपाट खुलने के साथ ही भगवान श्री रूद्रनाथ के कपाट भी भक्तों के लिए खोल दिये गये है। कपाट खुलने के अवसर व उसके बाद यहां पर हजारों श्रद्धालुओं ने रूद्रनाथ की पूजा अर्चना व दर्शन कर अपना जीवन धन्य कर रहे है। मध्य हिमालय की गोद में स्थित पंच केदारों में अग्रणी मदमहेश्वर व रूद्रनाथ ही आज भी दुर्गम पर्वत पर स्थित है।

लाखों जीवों की हत्या कराकर देश को कलंकित कर रही है सरकार

लाखों जीवों की हत्या कराकर देश को कलंकित कर रही है सरकार
भारत में लाखों निरापराध, असहाय जीवों को दो टके के लालच में आजादी के बाद की तमाम सरकारों ने (चाहे वे कांग्रेस की रही हो या भारतीय संस्कृति के स्वयंभू ध्वजवाहक संघ द्वारा पोषित-संरक्षित भाजपा के महानायक अटल आड़वाणी के नेतृत्व वाली सरकारें रही हो या अन्य दलों की सांझी सरकार रही हो) हर रोज गो वंश सहित अन्य पशुओं की निर्मम हत्या कराने के लिए देश में सैकड़ों कत्लखाने ही खोल रखे हैं। यह भारतीय भारतीय संस्कृति, ईश्वरी विधान व मानवता के प्रति घोर अपमान हैं। पश्चिमी देशों में तो अज्ञानता का ही शिकंजा कसा रहा, अरब में भी ज्ञान का दिव्य प्रकाश अभी तक नहीं पंहुच पाया। परन्तु भारत में जहां जड़ चेतन में भगवान का परम स्वरूप बताने वाले भगवान श्री कृष्ण, भगवान राम, गौतम बुद्व व महावीर जैन जैसी दिव्यात्मा की अवतरण व कर्म भूमि रही है वहां पर दो टके के खातिर निरापराध जीवों की निर्मम हत्या होनी देश के हुक्मरानों व यहां की जनता को धिक्कार रहा है। भारत में कत्लगाह होना ही भारत के माथे पर बदनुमा कलंक से भी बदतर है।

खुदा की ऐसी मेहर

खुदा की ऐसी मेहर रही साथी,
हर तुफाने भंवर से बची मेरी कश्ती।
तुम मुस्कराते रहो इसी तरह,
हम हर सितम सह लेगें हंसते हंसते।।
देवसिंह रावत

खून का आंसू रोणिया च मेरा उत्तराखण्डी

जागी जावा जागी मेरा उत्तराखण्डी वीरो,
जागी जावा जागी मेरी देव भूमि का सपूतो।।
चंगेजी लूटेरों ला देखो लूटी मेरो पहाड़,
कोडियों का दाम बेची यो ना धरती माॅं।।
मुजफरनगर के जख्म हमें धिक्कार रहे हैं।
शहीदों की शहादत को भी ये रौंद रहे हैं।।
गैरसैंण राजधानी को ये नादिर रोक रहे है,
जाति-क्षेत्रवाद के ये कीड़े चंगेज बने हैं।।
माॅ माटी मानुष से इनको जरासा प्रेम नहीं है,
वतन को लुटने लुटाने में ही दिन रात लगे है।
जागो मेरो बदरी नाथ जाग भोला केदार,
जागो मेरो नरसिंह जागो त्रिकाल भैंरों।।
माॅं भवानी जागी जाओ जागो हरि हर,
नेताओं का भेंष माॅं आज घुसी लूटेरा।।
नौकरशाही मां भी घुसी गया बटमार,
जनसेवा का नाम पर लूट मची भारी।।
दिल्ली दरवार में घुसी गेना पत्तीधारी,
रक्षा करो बीर बजरंगी रक्षा करो ग्वेल।।
रक्षा करो चक्रधारी तुम मेरो श्री कृष्ण,
आयां तेरी शरण माॅं सभी उत्तराखण्डी।।
पाखंडी लूटेरों से रक्षा करो माॅं चण्डी।
खून का आंसू रोणिया च मेरा उत्तराखण्डी।।
जागी जावा जागी मेरा उत्तराखण्डी वीरो।
जागी जावा जागी मेरी देवभूमि का सपूतो।।
-देवसिंह रावत ़(19-20 मई 2011)

good and bad time

every moment is right to do right work and every time is bad for doing bad work. belive whenever we do right work that time god bless with us. and whenever we do bad work that time god anger with us.

उत्तराखण्ड के हितों से खिलवाड़ करने से बाज आये आडवाणी, गडकरी व संघ

उत्तराखण्ड के हितों से खिलवाड़ करने से बाज आये आडवाणी, गडकरी व संघ
-उत्तराखण्ड के हितों से खिलवाड़ करने वालों को ले डूबता है देवभूमि का अभिशाप

लगता है जनविरोधी कुशासन को तमिलनाडू व बंगाल में जनता द्वारा उखाड़ फेंकने के बाबजूद भी सत्तामद में चूर भाजपा व संघ नेतृत्व की कुम्भकर्णी नींद नहीं जागृत हो रही है। आज सुबह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष गड़करी ने उत्तराखण्ड में पूरी तरह बेनकाब हो चूके भाजपा मुख्यमंत्री निशंक को शर्मनाक संरक्षण देने के लिए प्रदेश के वरिष्ठ जननेता व पूर्व मुख्यमंत्रियों भगतसिंह कोश्यारी व भुवनचंद खंडूडी के साथ मुख्यमंत्री निशंक की उपस्थिति में बैठक की। इस प्रकरण से भाजपा का आम कार्यकत्र्ता ही नहीं प्रदेश की जागरूक जनता जानना चाहती है कि भाजपा आला कमान लालकृष्ण आडवाणी व राष्ट्रीय अध्यक्ष गड़करी को प्रदेश के कोश्यारी, फोनिया, ले. जनरल तेजपाल सिंह रावत व मोहनसिंह ग्रामवासी जैसे ईमानदार नेतृत्व को दर किनारे करके निशंक को बनाये रख कर प्रदेश व भाजपा की जड़ों में मट्ठा क्यों डालने को उतारू है। इसके साथ जनता को इस बात की भी हैरानी है कि भारतीय संस्कृति, सुशासन व रामराज्य की…

महानायक महेन्द्र सिंह टिकैत को शतः शतः नमन्

महानायक महेन्द्र सिंह टिकैत को शतः शतः नमन्
सिसौली(प्याउ)। सिसौली के संत व लाखों किसानों के महानायक चैधरी महेन्द्र सिंह टिकैत को 16 मई को सोमवार को लाखों किसानों ने अश्रुपूर्ण अंतिम विदायी दी। भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष के रूप में भारतीय किसानों की एक मजबूत आवाज बने टिकैत जिनकी एक दहाड़ से दशकों तक दिल्ली दरवार के हुक्मरानों के पसीने छूटते थे का अंतिम संस्कार उनके गांव में किया गया।
टिकैत का जन्म 1935 में मुजफ्फरनगर के सिस©ली गांव में एक जाट परिवार में हुआ था। 76 वर्षीय बाबा टिकैत काफी समय से कैंसर तथा किडनी के रोग से पीड़ित थे। रविवार की सुबह मुजफ्फरनगर आवास पर उनका निधन हो गया था। तभी उनका पार्थिव शरीर पैतृक गांव सिसौली लाया गया था। कैंसर अ©र लीवर की समस्य्ाा से जूझ रहे महेन्द्र सिंह टिकैत का वजन 95 किल¨ से घटकर 55 किल¨ रह गय्ाा था। टिकैत करीब आठ महीने से शैय्य्ाा पर पड़े हुए थे। किसान¨ं के हक में सतत संघर्षरत रहे टिकैत कई बार गिरफ्तार किय्ो गये अ©र विवाद¨ं से भी घिरे रहे लेकिन इन सबके बावजूद उनके निधन से किसान आंद¨लन क¨ गहरा झटका लगा है। व¨ट क्लब पर टिकैत के नेतृत्व में आय्ा¨ज…

काश उत्तराखण्ड में भी होती माॅ, माटी व मानुष के लिए संघर्ष करने वाली ममता

काश उत्तराखण्ड में भी होती माॅ, माटी व मानुष के लिए संघर्ष करने वाली ममता
काश उत्तराखण्ड में भी एक ममता बनर्जी होती जो प्रदेश की जनांकाक्षाओं का सम्मान करते हुए यहां के ‘मां, माटी, मानुष‘के हितों को निर्ममता से रौंद रहे दिल्ली दरवार के प्यादा बने कांग्रेस व भाजपा के सत्तालोलुप बौनी मानसिकता के नेताओं के चुंगल फंसे उत्तराखण्ड की रक्षा करती। ममता बनर्जी ने 34 साल से बंगाल की सत्ता में काबिज हुए वामदलों की निरंकुश व जनविरोधी सत्ता को जिस अदम्य साहस व संघर्ष की बदोलत उखाड़ फैंका उसके लिए उत्तराखण्ड की जनता की तरफ से मैं उनको शतः शतः नमन् करता हूॅ। इसके साथ पूरे देश में भ्रष्टाचार व परिवारवाद के प्रतीक बन चूके करूणानिधी के नेतृत्व वाले द्रुमुक कुशासन को दो तिहाई से अधिक बहुमत से भारी विजय हाशिल करने वाली अन्नाद्रुमुक की प्रमुख जय ललिता को भी पूरे देश की जनता हार्दिक बधाई देती है। असम में तरूण गोगई के नेतृत्व में कांग्रेस ने अपनी सत्ता को बरकरार रख कर देश के चुनावी समीक्षकों को भी हैरान कर दिया है। वहीं केरल में वाम गठबंधन को सत्ताच्युत कर कांग्रेसी गठबंधन को
ऐतिहासिक सफलता मिली। चुनाव म…

भाजपा -कांग्रेस के बीच नहीं अपितु तिवारी व हरीश रावत के बीच होगा 2012 का विधानसभा चुनाव!

विधानसभा चुनाव से पहले ही हरीश रावत ने चटायी अपने विरोधियों को धूल
-भारी मतों से विजयी होकर हरीश रावत के पुत्र आनन्दसिंह रावत को मिली प्रदेश युवक कांग्रेस अध्यक्ष की कमान
-भाजपा -कांग्रेस के बीच नहीं अपितु तिवारी व हरीश रावत के बीच होगा 2012 का विधानसभा चुनाव!



भले ही दिल्ली में बैठे कांग्रेसी नेता उत्तराखण्ड के दिग्गज कांग्रेसी नेता हरीश रावत को हर समय हाशिये में डालने का काम करे परन्तु हरीश रावत अपने विरोधियों के तमाम षडयंत्रों को नाकाम करते हुए सदा ही अपने विरोधियों पर 21 ही साबित होते है। इन तमाम प्रकरणों से एक बात स्पष्ट हो गयी कि अगर विधानसभा चुनाव तक भाजपा मठाधीश जनभावनाओं को रौंदते हुए अपने निहित स्वार्थ के कारण निशंक को प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाये रखते हैं तो आगामी विधानसभा चुनाव का मुकाबला भाजपा कांग्रेस के बीच में न हो कर तिवारी व हरीश रावत के बीच में होना तय है। क्योंकि निशंक के मुख्यमंत्री रहने से भाजपा पहले ही चुनावी दंगल के मैदान से बाहर हो कर दहाई के अंक को छूने के लिए भी मोहताज हो जायेगी।
इसका एक नजारा इस सप्ताह युवक कांग्रेस के चुनाव में देखने को मिला। उत्तराखण्ड…

मंहगाई से देश को अराजकता के गर्त में धकेलने वाले प्रधानमंत्री मनमोहन के आवास पर धरना दें राहुल गांधी

मंहगाई से देश को अराजकता के गर्त में धकेलने वाले प्रधानमंत्री मनमोहन के आवास पर धरना दें राहुल गांधी
जब राहुल गांधी ने देश की राजधानी दिल्ली से सटे हुए उप्र के आद्योगिक शहर नौएडा में मायावती सरकार के पुलिसिया दमन से पीड़ित गांव में एक दिन का धरना दिया था, मैने उसका पुरजोर समर्थन किया था। परन्तु मुझे यह देख कर बहुत आश्चर्य हो रहा है कि मनमोहन सिंह के कुशासन के कारण आज देश बेलगाम मंहगाई, आतंक व भ्रष्टाचार से तबाही के कगार पर है। परन्तु राहुल गांधी अपनी इस सरकार के मुखिया मनमोहन सिंह के आवास पर एक पल के लिए धरना पर क्यों नहीं बैठ रहे है। क्या उनको यह नहीं दिख रहा है कि उनकी सरकार के इस नक्कारेपन से देश के करोड़ों लोगों का जिन्दगी दुश्वार हो गयी है। राहुल गांधी को यह सबकुछ दिखेगा ही नहीं क्योंकि न तो उनको कभी मंहगाई का भान है व नहीं उनके सलाहकारों को मंहगाई का ज्ञान है। सभी अरबों की दौलत पर कुण्डली मारे हुए है। अगर राहुल गांधी व उनके सलाहकारों को इस बात का भान रहता तो वे नौएडा में धरना देने के बाद या पहले सबसे पहले देश के लिए नक्कारा साबित हो चूके प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आवास पर ठीक…

शहीदों की शहादत व लोकशाही का अपमान है देहरादून में 16 करोड़ का मुख्यमंत्री आवास बनाना

शहीदों की शहादत व लोकशाही का अपमान है देहरादून में 16 करोड़ का मुख्यमंत्री आवास बनाना
इसी शुक्रवार 13 मई को प्रदेश की अस्थाई राजधानी देहरादून में प्रदेश के मुख्यमंत्री के लिए 16 करोड़ रूपये लागत से बने मुख्यमंत्री आवास भवन में मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल के प्रवेश से प्रदेश की अब तक की सरकारों का उत्तराखण्ड विरोधी चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो गया। एक तरफ प्रदेश सरकार ने अभी प्रदेश की स्थाई राजधानी का फेसले का ऐलान नहीं किया वहीं गुपचुप तरीके से प्रदेश के सभी महत्वपूर्ण कार्यालय का निर्माण देहरादून में ही करके प्रदेश की जनभावनाओं के साथ प्रदेश की स्थाई राजधानी गैरसैंण बनाने की मांग करते हुए शहीद हुए राज्य गठन आंदोलनकारियों की शहादत का घोर अपमान है। देहरादून में बने प्रदेश की जनता के विकास के 16 करोड़ रूपये खर्च करके जो मुख्यमंत्री का आवास बनाया गया उससे साफ हो गया कि प्रदेश के अब तक के तमाम हुक्मरानों को न तो प्रदेश की जनभावनाओं का एक रत्तीभर भी सम्मान है व नहीं उनको नैतिक मर्यादा तथा लोकशाही में तनिक सा भी विश्वास नहीं है। अगर उनको लोकशाही व नैतिक मूल्यों के लिए जरा सा भी सम्मान रहता तो …

राज्य आंदोलनकारियों के सम्मान के नाम पर अपमान करने से बाज आये सरकार

राज्य आंदोलनकारियों के सम्मान के नाम पर अपमान करने से बाज आये सरकार
नई दिल्ली ं(प्याउ)।15 मई को उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलनकारी प्रमुख संगठनों की दिल्ली के गठवाल भवन में एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। बैठक में राज्य गठन के बाद अब तक की तमाम सरकारों द्वारा राज्य जनांकांक्षाओं को निर्ममता से रौंदे जाने पर जहां गहरा आक्रोश प्रकट किया वहीं राज्य आंदोलनकारियों के सम्मान के नाम पर जो अपमानजनक मापदण्ड अपनाये गये हैं उसकी कड़ी भत्र्सना की । इस बैठक में राज्य गठन जनांदोलन में संसद की चैखट में ऐतिहासिक 6 साल का सफल धरना देने वाले उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा के अलावा उत्तराखण्ड जनमोर्चा व उत्तराखण्ड राज्य लोकमंच के प्रमुख आंदोलनकारियों ने भाग लिया। बैठक में सर्व सम्मत से प्रदेश सरकार से मांग की गयी कि अगर सरकार ने आंदोलनकारियों को ईमानदारी से चिन्हित ही करना है तो उसे तत्काल राज्य गठन आंदोलन के प्रमुख संगठनों से उनके प्रमुख आंदोलनकारियों के नामों को आंमंत्रित करना चाहिए। इस अवसर पर समस्त आंदोलनकारियों ने इस बात पर गहरी नाराजगी प्रकट की कि राज्य गठन के ग्यारह साल बाद भी प्रदेश के अब तक की भाजपा व क…

प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह अविलम्ब इस्तीफा दें

देश को मंहगाई, आतंक व भ्रष्टाचार की गर्त में धकेलने वाले हुक्मरान देश के लिए बाहरी दुश्मनों से बड़ कर खतरनाक होते हैं। देश को बेलगाम मंहगाई से अराजकता की गर्त में धकेलने वाले देश के प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह अविलम्ब इस्तीफा दें। www.rawatdevsingh.blogspot.com

बंगाल, तमिलनाडू की महान जनता को उनके ऐतिहासिक जनादेश को शतः शतः नमन्

बंगाल, तमिलनाडू की महान जनता जिसने जनहितों को रौंद रही सत्तासीनों के कुशासन को उखाड़ फेंका है, उनके ऐतिहासिक जनादेश को शतः शतः नमन्। उत्तराखण्ड की जनता भी आगामी विधानसभा चुनाव में यहां पर सत्तासीन भाजपा की भ्रष्ट व उत्तराखण्ड विरोधी निशंक सरकार को उखाड़ फेंकने व दिल्ली में आसीन भाजपा-संघ के धृतराष्ट्र बने मठाधीशों को सबक सिखाने के लिए बेसब्री से विधानसभा चुनाव का इंतजार कर रही है।

आतंकी पाक की परमाणु शक्ति को तत्काल नष्ट करे अमेरिका

आतंकी पाक की परमाणु शक्ति को तत्काल नष्ट करे अमेरिका
-लादेन व पाक को खूंखार आतंकी बना कर विश्व शांति को ग्रहण लगाने के लिए विश्व से माफी मांगे अमेरिका
-लादेन को बनाया अमेरिका ने इस्लामी जगत में शहीद

पाकिस्तानी परमाणु शक्ति विहिन करने के लिए अमेरिका को यथाशीघ्र ही परमाणु अस्त्रों को कब्जे में लेने के लिए लादेन पर किये जैसे ही हमला करना चाहिए। क्योंकि लादेन की तरह ही पाकिस्तान को भी अमेरिका की कृपा व सहयोग से ही आज विश्व शांति के लिए खतरा बन गया है। अपने इन कुकृत्यों के लिए विश्व जनसमुदाय से माफी मांगते हुए अमेरिका को प्रायश्चित करने के लिए तत्काल पाकिस्तानी परमाणु अड्डों को तबाह कर परमाणु अस्त्रों को आतंकी हाथों में पंहुचने के लिए लादेन पर किये गये छापामार हमला करना चाहिए। इसमें जरा सी भी अमेरिका ने देर लगायी तो यह अमेरिका के साथ साथ विश्व शांति के लिए भी खतरा हो सकता है।
हालांकि भारत सहित विश्व के आतंकवादी गतिविधियों पर गहरी नजर रखने वाले सभी समीक्षक बार बार इस बात को दोहरा रहे थे कि अमेरिका के शह पर ही न केवल लादेन अपितु उसका अलकायदा भी विश्व की शांति के लिए एक गंभीर खतरा बन गया है…

बाबा मोहन उत्तराखण्डी की शहादत व अण्णा का अनशन! आखिर कब तक शहीदों की शहादत पर मूक रहेंगे उत्तराखण्डी

बाबा मोहन उत्तराखण्डी की शहादत व अण्णा का अनशन!
आखिर कब तक शहीदों की शहादत पर मूक रहेंगे उत्तराखण्डी
मैं इस बात से हैरान हॅू कि जहां देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ पूरे देश में एक व्यापक माहौल हैं परन्तु भ्रष्टाचार में आकंण्ठ डूबे उत्तराखण्ड में सरकारी भ्रष्टाचार पर जिस शर्मनाक ढ़ग से यहां की मीडिया व राजनेतिक दलों ने शर्मनाक मौन रखा है उससे पूरे देश के चिंतकों को चिंतित कर दिया है। लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि दिल्ली में तो भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मात्र 98 घंटे की आमरण अनशन पर दिल्ली सरकार जाग गयी थी। अण्णा देश के महानायक बन गये। देश की जनता ने उनको हाथों हाथ लिया । परन्तु उत्तराखण्ड में बाबा मोहन उत्तराखण्डी की राजधानी गैरसैंण बनाने की मांग को लेकर चले 29 दिन के आमरण अनशन पर अपनी शहादत देने के बाबजूद तत्कालीन धृतराष्ठ से बने मुख्यमंत्री नारायणदत्त तिवारी की वासना के गर्त में मरी आत्मा ही जाग पायी व नहीं प्रदेश की जनता ही जागी। वहीं 68 दिनों तक हरिद्वार में भ्रष्टाचार के खिलाफ आमरण अनशन करने वाले स्वामी निगमानंद के अनशन ने भाजपा की वर्तमान प्रदेश सरकार ही जागी व नहीं देश में भ्र…

अग्रणी चिंतक व राजनेता केसी शोषित का निधन

अग्रणी चिंतक व राजनेता केसी शोषित का निधन
नई दिल्ली(ंप्याउ)। उत्तराखण्ड राज्य गठन आंदोलन व भारतीय समाजवादी जनचेतना के अग्रणी पूंज के सी शोषित ‘शर्मा’ जी का निधन गत सप्ताह उनके दिल्ली निवास दयालपुर में हो गया। उनका अंतिम संस्कार निगम बोध घाट में किया गया। वे छटे दशक में सोसलिस्ट पार्टी दिल्ली के प्रदेश सचिव भी रहै। उन्होंने दिल्ली में न केवल उत्तराखण्डी समाज अपितु देश के गरीब, शोषित, मजदूर व उपेक्षित समाज को एकजूट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उत्तराखण्डी मूल के अग्रणी समाजसेवी के शी शोषित इंडियन एक्सप्रेस से भी लम्बे समय से जुड़े रहे। उन्होंने उत्तराखण्डियों को एकजूट करने के लिए एक समाचार पत्र भी दिल्ली में प्रकाशित किया था। लम्बे समय तक वे प्यारा उत्तराखण्ड के माध्यम से उत्तराखण्डी समाज को जागृत करते रहे। वे देश के अग्रणी चिंतक के साथ साथ आम जनहितों के लिए संघर्ष करने वाले देश के अग्रणी समाजवादी राजनेता रहे। प्यारा उत्तराखण्ड समाचार पत्र को उनके निधन की खबर उनके सुपुत्र ने दूरभाष से दी। इसके बाद समाजवादी नेता प्रेम सुन्दरियाल ने भी उनके निधन की पुष्टि करते हुए गहरो शोक प्रकट …

इस साल भी नहीं कर पाये कपाट खुलने वाले दिन मुख्यमंत्री निशंक भगवान बदरीनाथ के दर्शन

श्री बदरीनाथ धाम सहित चारों धामों के खुले कपाट
इस साल भी नहीं कर पाये कपाट खुलने वाले दिन मुख्यमंत्री निशंक भगवान बदरीनाथ के दर्शन

,बदरीनाथ(प्याउ)। 9 मई के पावन ब्रह्म मूर्हत में 5.35 मिनट पर पूरे वैदिक मंत्रों व भगवान श्री बदरीनाथ की जय हो! के गगनभेदी जयकारों के बीच छह माह के शीतकालीन प्रवास के बाद आम भक्तों के लिए भगवान बदरी विशालके कपाट खोल दिये गये। गौरतलब है कि भगवान श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के एक दिन पहले भगवान केदारनाथ के भी कपाट खुल गये। इसके साथ ही चार धामों के नाम से विश्व विख्यात पावन धामों के कपाट खुलते ही प्रदेश में देश विदेश से भक्तों का दर्शनार्थ तांता ही लग गया।
उत्तराखंड के सीमान्त जनपद चमोली में 3,133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस हिन्दू धर्म के सर्वोच्च धाम के कपाटइस अवसर पर प्रथम दिन ही देश विदेश से आये 25 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने अखंड ज्योति के साथ ही भगवान के दर्शन किए। वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी भगवान श्री बदरीनाथ के दर्शन कपाट खुलने के दिन नहीं कर सके। गौरतलब है मुख्यमंत्री बनने के बाद वे गत वर्ष कपाट खुलने के पावन पर्व पर ग…

चुनावी जंग को जीतने के लिए निशंक चल सकते हैं नये जनपद गठन का दाव

चुनावी जंग को जीतने के लिए निशंक चल सकते हैं नये जनपद गठन का दाव
जैसे-जैसे प्रदेश में आगामी वर्ष में होने वाले विधानसभा चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है प्रदेश में नये जिले बनाने की मांग को लेकर चल रहे आंदोलनों के तेवर भी बदलते जा रहे है। इन आंदोलनकारियों को विश्वास है कि विधानसभा चुनाव से पहले सरकार राजनेतिक दाव खेल कर हर हाल में प्रदेश में कुछ नये जिलों का गठन करेगी। इन नये संभावित गठित होने वाले जिलों में जहां काशीपुर, धुमाकोट, रानीखेत, यमुनाघाटी व रूड़की का नाम प्रमुखताः से लिया जा रहा है।
इसी आशा में प्रदेश में नये जनपदों के गठन की मांग का आंदोलन इन स्थानों के अतिरिक्त कई अन्य स्थानों में भी जारी है। हालांकि नये जिलों की मांग को लेकर रामगंगा, पिण्डर, कोटद्वार, नरेन्द्र नगर, डीडीहाट सहित कई अन्य नाम बड़ी तेजी से जुड़ रहे है। परन्तु जिस तीब्रता से रानीखेत जिला बनाओं आंदोलन संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले साढ़े तीन माह से चल रहा है उसको देख कर लग रहा है कि अगर प्रदेश सरकार ने नया जिला बनाने की मांग को विधानसभा चुनाव से पहले नहीं मा नी तो यह भाजपा के लिए बहुत ही घातक हो सकता …

विश्व शांति के लिए आतंकी पाक की परमाणु शक्ति तत्काल नष्ट करे अमेरिका

विश्व शांति के लिए आतंकी पाक की परमाणु शक्ति तत्काल नष्ट करे अमेरिका
पाकिस्तानी परमाणु शक्ति विहिन करने के लिए अमेरिका को यथाशीघ्र ही परमाणु अस्त्रों को कब्जे में लेने के लिए लादेन पर किये जैसे ही हमला करना चाहिए। क्योंकि लादेन की तरह ही पाकिस्तान को भी अमेरिका की कृपा व सहयोग से ही आज विश्व शांति के िलए खतरा बन गया है। अपने इन कुकृत्यों के लिए विश्व जनसमुदाय से माफी मांगते हुए अमेरिका को प्रायश्चित करने के लिए तत्काल पाकिस्तानी परमाणु अड्डों को तबाह कर परमाणु अस्त्रों को आतंकी हाथों में पंहुचने के लिए लादेन पर किये गये छापामार हमला करना चाहिए। इसमें जरा सी भी अमेरिका ने देर लगायी तो यह अमेरिका के साथ साथ विश्व शांति के लिए भी खतरा हो सकता है।- देवसिंह रावत

दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान

दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान
जिस देश में देशद्रोहियों का संरक्षण तथा अन्न उत्पादक किसानोें, मजदूरों व आम राष्ट्र भक्तों का दमन किया जाता है। उस देश को दूश्मनों की क्या जरूरत। उस देश के शासकों को एक पल भी सत्ता में रहने का नैतिक हक नहीं है।

भारत में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं

भारत में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं

जिस देश में मातृ भाषाओं को रौंदते हुए फिरंगी भाषा की गुलामी की जाती हो, जिस देश में गौ माता का निर्ममता से कत्ल किया जाता हो, जिस देश में भारत माता से द्रोह करने वालों को सम्मान दिया जाता हो और जिस देश में धरती माता पर अवैध कब्जा करने वाले पाक व चीन को गले लगाया जाता हो, उस देश में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं है।-देवसिंह रावत www.rawatdevsingh.blogspot.com

जब सोनिया को दिलाया ताज व भाजपा को फंसाया मक्कर में काला बाबा ने

जब काला बाबा के मक्कर में फंसी भाजपा,
जब सोनिया को दिलाया ताज व भाजपा को फंसाया मक्कर में काला बाबा ने
महान रहस्ममय शक्तियों के स्वामी काला बाबा
जनविरोधी नेताओं के साक्षात काल थे कालाबाबा
इतिहास की दिशा बदलने की ताकत रखने वाले काला बाबा को समझ नहीं पायी दुनिया

‘340 सांसदों के समर्थन से मैं देश में सोनिया गांधी का राज कराऊंगा’ जेसे ही रहस्यमय शक्तियों के महान चमत्कारी ‘काला बाबा’ ने 13 वीं लोकसभा चुनाव से एक साल पहले जब मध्य प्रदेश सहित चार राज्यों की विधानसभा चुनाव में भाजपा का परचम फेहराने की खबर पर तत्काल प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए कहा ‘देवी अब फंसे भागती जनता पार्टी वाले मेरे मक्कर में (बाबा भाजपा को भागती जनता पार्टी ही कहते थे)। काल का चक्कर चलता है और काला का चलता है मक्कर। काल के चक्कर से तो कोई बच भी सकता है परन्तु काला के मक्कर से कोई नहीं बच सकता। अब मैं अपने मक्कर के चक्कर में भाजपा को फंसा कर छह माह पहले ही मध्यावति चुनाव कराऊंगा और 340 सांसदों के बहुमत से देश में सोनिया गांधी का राज चलाऊंगा।’ बाबा यही नहीं रूके उन्होंने अपनी रो में कहा देवी मैं अब किसी भी कीमत पर कांग…