Pages

Thursday, September 22, 2011

-देवभूमि की पावनता की रक्षा की फिर भगवान बदरीनाथ ने- निशंक के बाद मनंमोहन को भी जाना होगा

-देवभूमि की पावनता की रक्षा की फिर भगवान बदरीनाथ ने/
-राव, मुलायम, तिवारी, वाजपेयी, खंडूडी व निशंक के बाद मनंमोहन को भी जाना होगा/


भगवान बदरीनाथ ने फिर एक बार देवभूमि उत्तराखण्ड की पावनता की रक्षा की। मैने कई बार यहां के अपनी सत्तालोलुपता में अंधे हो कर देवभूमि के हितों का गला घोंटने वाले सत्तांधों को समझाया ही नहीं प्यारा उत्तराखण्ड में भी प्रमुखता से सम्पादकीय में प्रकाशित भी किया था कि वे भगवान बदरीनाथ को अंधा न समझें। अपने नापाक कृत्यों के कारण उत्तराखण्ड विरोधी रहे राव, मुलायम, वाजपेयी, तिवारी, खंडूडी ंके बाद ंअब निशंक को भी महाकाल ने ऐसा ंसबक सिखाया की उनको दिन में तारे नजर आये। मैं भगवान श्रीबदरीन केदार, भगवान ंनरसिंह, भगवान सदाशिव, जगत जननी माॅं भवानी, महा काल भैरव, सहित उत्तराखण्ड के कण कण में विराजमान सिद्व-मुनियों, ग्वेल देवता, बजरंगबली हनुमान ंसहित 33 करोड़ ंदेवी देवंताओं को नमन् करता हॅू कि जो काम यहा की व्यवस्था नहीं कर पायी वो इन जनविरोधी ंतत्वों को समय समय पर दण्डित करके आप लोगों ने ंदेवभूमि के निवासियों को जहां उबारां ंवहीं गंगा यमुना की ंपावन अवतरण स्थली उत्तराखण्ड की ंपावनता की रक्षा ंकी, मैं ंसवा करोड़ उत्तराखण्डियों की तरफ से उत्तराखण्ड की पावनता की रक्षा के लिए सदैव सक्षात काल व ंमुक्ति दाता परम ब्रह्म भगवान श्रीकृष्ण्ंा स्वरूप सभी देवी देवताओं को शतः शतः नमन् करता हूॅ। ंक्योंकि इन सत्तांधों से उत्तराखण्ड की रक्षा के लिए मैने संसद की चैखट पर राज्य गठन जनांदोलन में अपने 6 साल के निरंतर धरना प्रदर्शन ंआंदोलन रूपि तपस्या में भी ंआपने ही ंलाज रखी थी, आज भीं आप ंलाज रख रहे है। आपके ही ंआर्शीवाद से आज भी मैं विश्व लोकशाही ं, मानवता व भारतीय संस्कृति का परचम फहराने के लिए कुरूक्षेत्र की इस धरती से ंप्यारा उत्तराखण्ड नामक सुदशर््ंान चक्र से जनविरोधी मनमोहन संहित तमाम सत्तांधों ंको आपंके आदेशानुसारं बेनकाब कर रहा हॅू।

No comments:

Post a Comment