Pages

Saturday, April 2, 2011

सच्चे सुख के साथी श्रीकृष्ण


सच्चे सुख के साथी  श्रीकृष्ण
जीतने बाले को हंसते देखा, हारने वाले को भी रोते
हार जीत से उपर उठ कर कर्म करे जो होता है यति
श्रीकृष्ण की सीख  मान जो करे जीवन में सम व्यवहार 
हार जीत को स्वप्न मान कर बने कृष्ण चरण अनुरागी; 
जपो हर पल श्री राधे कृष्ण वो ही सचे सुख के साथी
हरि छोड़कर जो रखे जग से आशा वो होगा दुखभागी
(देवसिंह रावत 2 अप्रैल 2011 पोने बारह बजे भारत के विश्व कप विजय होने पर)

No comments:

Post a Comment