सरकार बनी तो भ्रष्टाचारियों को 3 महिने में जेल भेजेंगे डा हरक सिंह रावत


सरकार बनी तो भ्रष्टाचारियों को 3 महिने में जेल भेजेंगे डा हरक सिंह रावत
नई दिल्ली(प्याउ)। भले ही कांग्रेस ने उत्तराखण्ड में आगामी विधानसभा चुनाव में विजय होने के बाद किसी भी नेता को अभी मुख्यमंत्री के पद के लिए नामित नहीं किया है परन्तु वर्तमान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डा. हरकसिंह रावत ने वर्तमान निशंक सरकार को देश की सबसे भ्रष्ट सरकार बताते हुए दो टूक शब्दों में कहा कि अगर आगामी विधानसभा चुनाव में उनकी सरकार प्रदेश में सत्तासीन हुई तो तीन महिने के अंदर तमाम भ्रष्ट्राचारियों को सलाखों के अंदर जेल में बंद करेंगे। यह दो टूक विचार कांग्रेसी नेता डा हरक सिंह रावत ने प्यारा उत्तराखण्ड के सम्पादक व उत्तराखण्ड राज्य गठन के अग्रणी आंदोलनकारी संगठन उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा के प्रमुख देवसिंह रावत सिंह से कांग्रेस मुख्यालय में 26 मार्च की सांयकाल  को एक विशेष भेंटवार्ता में कही।    भले ही उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया परन्तु उनका अप्रत्यक्ष इशारा स्पष्ट रूप से प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक पर ही था। डा हरक सिंह रावत प्रदेश में भाजपा नेतृत्व वाली निशंक सरकार को भ्रष्टाचारी सरकार कहते हुए प्रदेश की आम जनता को आगाह किया कि इस सरकार ने प्रदेश की पूरी व्यवस्था को भ्रष्टाचार की गर्त में ही धकेल दिया है। गौरतलब है कि डा हरकसिंह रावत भी उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलन के दौरान देश की संसद की चैखट राष्ट्रीय धरना स्थल जंतर मंतर दिल्ली में 1994 से सन्2000 राज्य गठन तक राष्ट्रीय कीर्तिमान स्थापित करने वाले उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलन के प्रमुख संगठन ‘ उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष भी रहे। भाजपा को छोड़ने के बाद  डा हरक सिंह रावत ने उत्तराखण्ड राज्य जनांदोलन के प्रमुख संगठन उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा से जुड़े। वे कई महिनों मोर्चा का नेतृत्व करने के बाद बसपा से जुड़ गयें परन्तु उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलन के लिए समर्पित आंदोलनकारी मोर्चा के संयोजक व सर्वोच्च न्यायालय के प्रखर अधिवक्ता अवतार सिंह रावत व मोर्चा के तत्कालीन महासचिव देवसिंह रावत सहित तमाम प्रखर आंदोलनकारियों ने दलगत राजनीति से उपर उठ कर मोर्चा के संघर्ष की मशाल को राज्य गठन तक प्रज्जवलित रखी। 16 अगस्त 2000 को राज्य गठन के बाद इस  छह साल तक के निरंतर सफल  ऐतिहासिक धरने के जंतर मंतर पर ही समापन अवसर पर भी डा हरक सिंह रावत, वर्तमान यमुनोत्री से कांग्रेसी विधायक केदारसिंह रावत भी विशेष रूप से सम्मलित हुए थे। इस अवसर पर आयोजित ऐतिहासिक समापन समारोह में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सतपाल महाराज व भाजपा के तत्कालीन सांसद बच्चीसिंह रावत सहित सभी प्रमुख आंदोलनकारी संगठनों ने भाग लिया था। उस ऐतिहासिक समापन समारोह का संचालन भी मोर्चा के तत्कालीन अध्यक्ष देवसिंह रावत व अध्यक्षता मोर्चे के संयोजक अवतारसिंह रावत ने किया था। 

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार