मुस्कराओं प्रभु की कृपा के लिए


मुस्कराओं प्रभु की कृपा के लिए
ये रात दिन कब गुजर जाते हैं
बस यादें बाकी रह जाती है
समुन्दर की लहरों की तरह
जिनका कोई पता ठिकाना
नहीं होता बादलों की तरह
जिन्दगी भी इसी तरह
कब मिल जाय कब छूट जाय
हवा के झोंकों की तरह
बस मुस्कराते रहो हर पल
प्रभु की कृपा के लिए

शुभ रात्रि (20-03-2011 midnight)

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार