Pages

Thursday, March 24, 2011

विदेशों में ही नहीं देश में ही हैं अकूत सम्पति बेइमानों की



इस  देश के बेइमानों के विदेशों में ही नहीं देश में ही अकूत सम्पति हैं। जरूरत हैं इसको ईमानदारी से जांच करने की।  अगर इस देश के विकासखण्ड प्रमुख से  लेकर प्रधानमंत्री तक तथा विकासखण्ड अधिकारी से लेकर देश के मुख्य सचिव तक तथा मध्यम दर्जे के व्यवसायियों की ईमानदारी से निष्पक्ष  जांच ऐजेन्सी से जांच करायी जाय तो इनकी बेनामी इतनी सम्पति मिल जायेगी उससे देश के उपर तमाम ऋण उतारने के बाद सभी बच्चों को शिक्षा, सभी बेघरों को घर, चिकित्सा व सभी गांवों में बिजली, पानी, खेतों में सिंचाई की नहरें व मोटर मार्गों से जोड़ने के लिए पर्याप्त संसाधन हासिल हो सकता है।

No comments:

Post a Comment