गेम नही यह कलंक है


कोमनवेल्थ
गेम नही
यह कलंक है
भारत की आजादी पर
भारत के स्वाभिमान पर
यह अपमान है
शहीदों की शहादत का
जिन्होंने भारत की
आजादी के लिए
अपना बलिदान दिया
परन्तु सत्तांधे ने
देश के स्वाभिमान को
रौंदते हुए
देश के माथे पर
गुलामी का बदनुमा कलंक
कोमनवेल्थ ही लगा दिया।
आज हम बेशर्मो की तरह
देश के संसाध्नों को
गुलामी के इस कलंक के
जश्न व खेल में
नकटों की तरह
लुटाने में ही अपनी
शान समझ रहे हैं।
अपने शहीदों व
देश के स्वाभिमान को
अपने ही हाथों से
रौंद कर पिफर उसी
पिफरंगी सम्राज्ञी का पट्टा
अपने गले में टोमी की तरह
कोमनवेल्थ के नाम पर
लटका कर इतरा रहे हैं।
अपने ही हाथों से
अपनी भाषा मिटा कर
अपना नाम भारत रौंद कर
उसी पिफरंगी भाषा अंग्रेजी
उसी पिफरंगी नाम इंडिया को
अपना कर अपने विकास के
संसाध्नों को गुलामी का
जश्न मनाने में तबाह कर रहे हैं।
- देवसिंह रावत

Comments

Popular posts from this blog

गुरू पूर्णिमा को शंकराचार्य माधवाश्रम जी महाराज का भव्य वंदन

-देशद्रोह से कम नहीं है शिक्षा का निजीकरण