Pages

Tuesday, December 27, 2011

30 जनवरी को मतदान की घोषणा से उत्तराखण्ड में मचा हडकंप

30 जनवरी को मतदान की घोषणा से उत्तराखण्ड में मचा हडकंप/
-5 जनवरी को अधिसूचना जारी, 12 जनवरी को नामांकन भरने की अंतिम दिन व 16 जनवरी को नामांकन वापस लेने का अंतिम दिन/

-नई दिल्ली।(प्याउ)। चुनाव आयोग द्वारा उप्र, उत्तराखण्ड, पंजाब, मणिपुर व गोवा राज्यों की विधानसभाई चुनाव की रणभेरी बजा दी। इस घोषणाा के तहत हिमालयी राज्य उत्तराखण्ड में 30 जनवरी को मतदान किये जाने की घोषणा से प्रदेश की सभी पार्टियों में एक प्रकार से हडकम्प सा मच गया। प्रदेश में चुनाव की अधिसूचना 5 जनवरी को जारी की जायेगी। नामांकन भरने की अंतिम दिन 12 जनवरी, 13 जनवरी को  उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की जांच व 16 जनवरी को नाम वापसी की अंतिम दिन होगा। मतदान 30 जनवरी को होगा।  चुनाव आयोग की इस अप्रत्याशित घोषणा के कारण भाजपा, कांग्रेस सहित तमाम राजनैतिक दलों को अपने प्रत्याशियों की इसी सप्ताह घोषणा करने के लिए मजबूर कर दिया। राजनैतिक दलों को आशा थी कि प्रदेश में 20 से 25 फरवरी के बीच ही चुनाव होगा। परन्तु चुनाव आयोग की इस घोषणा से सभी हैरान व परेशान है।
प्रदेश के मुख्यमंत्री से लेकर प्रदेश की आम जनता इस पर चुनाव आयोग की प्रदेश की भौगोलिक स्थिति को नजरांदाज करने का आरोप लगा कर इसका विरोध कर रहे है। गौरतलब है कि जनवरी के महिने में यहां भयंकर हाड कंपादेने वाली ठण्ड की चपेट में पूरा प्रदेश होता है। यही नहीं प्रदेश के सीमान्त हिमालयी जनपदों में भारी हिमपात भी होता है।  परन्तु चुनाव आयोग ने सभी आपतियों को दर किनारे करते हुए अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम को यथावत रखा। चुनावों की घोषणा के साथ ही इन राज्यों में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है।चुनावों में उम्मीदवारों के खर्च पर नजर रखने के लिए निर्वाचन आयोग ने उनके लिए अलग बैंक खाता खोलना जरूरी कर दिया है। निर्वाचन आयोग ने पहली बार वोटिंग से जुड़ी शिकायतों के लिए 24 घंटे एक कॉल सेंटर की शुरुआत की है। टेलिफोन नंबर 1950 डॉयल कर लोग अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
मुख्य चुनाव आयुक्त श्री कुरैशी ने नई दिल्ली में आयोजित एक विशेष प्रेस वार्ता में इन चुनावों को ऐलान करते हुए बताया कि मणिपुर की 60 विधानसभा सीटों के लिए 28 जनवरी को वोटिंग होगी, उत्तराखंड की सभी 70 विधानसभा सीटों  व पंजाब की सभी 117 विधानसभा सीटों के लिए मतदान 30 जनवरी 2012 को होगा । वहीं  उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा के लिए चुनाव 4 ,8, 11, 15, 19, 23, 28 फरवरी  तथा गोवा के 40 विधानसभा सीटों के लिए मतदान तीन मार्च 2012 को होगा । उन्होंने बताया कि सभी राज्यों में मतदाता सूचियों को संशोधित किया जा रहा है और दो जनवरी 2012 को इसे पब्लिश किया जाएगा। फिलहाल उत्तर प्रदेश में 11 करोड़ 19 लाख 16 हजार 689 लोगों के नाम मतदाता सूची में हैं , पंजाब में एक करोड़ 74 लाख 33 हजार 408 मतदाता , गोवा में दस लाख 11 हजार 675, मणिपुर में 16 लाख 77 हजार 270 तथा उत्तराखंड में 57 लाख 40 हजार 148 मतदाता हैं। कुरैशी ने बताया कि मतदान के समय मतदाता की पहचान अनिवार्य होगी। अधिकांश वोटरों के पास फोटो पहचान पत्र हैं। इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से कोई छेड़छाड़ न हो पाए , इसके लिए इनकी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गये हैं।
मुख्य निर्वाचन निर्वाचन आयोग के अनुसार इन विधानसभा चुनाव के लिए गोवा में 1612, मणिपुर में 2325 , पंजाब में 19724, उत्तर प्रदेश में 128112 व उत्तराखण्ड में 9744 मतदान केन्द्र हैं।  इन विधानसभा चुनाव में जहां गोवा की विधानसभा में गोवा में 1 अजा, मणिपुर में 1 अजा व 19 अजजा, पंजाब में अजा के लिए 34, उत्तर प्रदेश में अजा की 85 व उत्तराखण्ड में 13 अजा तथा 2 सीटें अजजा के लिए आरक्षित है।

No comments:

Post a Comment