Pages

Wednesday, August 22, 2012


वक्त के मोहरे है यहां सभी अण्णा हो या रामदेव

वक्त के मोहरे है यहां सभी ं अण्णा हो या रामदेव
सबको जमीन सुंघाता है सिकंदर हो या जार्ज बुश
इतना न गिरो साथी जग में दो कदम चलने पर
तुम्हारी तस्वीर ही तुमको उजाले में भी डराने लगे
तुम्हारे शब्द ही तुम्हारी राह के कांटे बन कर डसे
आरती जिनकी उतारने चले वे कहां थे कहां खडे
स्वार्थ के पुतलों को न मशीहा बताओ तुम तो जरा
यहां काल पल में इन पुतलों को बेनकाब करता है 
देवसिंह रावत
(23 अगस्त 2012 प्रातः 9.47)

No comments:

Post a Comment