Pages

Thursday, August 23, 2012


सत कमे करो तुम

ईश्वर हैं कण कण के वासी, 
फिर भी क्यों छायी है उदासी।
क्यों जीवन जप तप में गंवाते
धन दौलत पद के पीछे भागते । 
फिर भी मिले न सुख अविनाशी
सुख  है श्रीकृष्ण कृपा की गंगा ।
क्यों ढ़ूढ रहे उसे जग एैश्वर्य में
लूट खसोट से दौलत कमा कर ।
राग द्वेष से ये पद नाम कमा कर
सोच रहे यहां सुख शांति मिलेगी ।
प्रभु स्वरूप प्राणी को दुख दे कर 
सुख शांति कभी नहीं यहां मिलती ।
सुख शांति की चाहत है तो साथी
जड़ चेतन को मन से अपना लो।
किसी निदोर्ष का कभी शोषण करके 
सुख शांति  जग में नहीं मिल पाती ।
प्रभु को पाना है तो सुनो मनमोहन
जगहित में जीवन समर्पित कर दो।।
देवसिंह रावत
(24 अगस्त 2012 प्रात 8 .55)

No comments:

Post a Comment