इंसानों की नहीं बुतों की हो गयी है ये दुनिया


बहुत गहरे जख्म है सीने पर दुनिया के,
जालिम के जुल्म से छलनी हुआ सीना
पर क्या कहूंॅ आपसे मेरे हमदम
एक उफ तक किसी के सीने से नहीं निकली
लगता है ये बस्ती भी खुदगर्जो की
इंसानों की नहीं बुतों की हो गयी है ये दुनिया ।

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार