Pages

Sunday, January 15, 2012

लूटरे बन गये है हुक्मरान

लूटरे बन गये है हुक्मरान
लोक तंत्र में लूटरे बन गये है हुक्मरान
जनता का हक मार कर बने हुए महान।
जनता का कर दिया जीना इन्होंने हराम
नेता व नौकरषाह के भेश में घुसे है षैतान।
धर्म व समाजसेवा के यही बने है भगवान
आम आदमी कैसे जीये, मंहगाई से परेषान।
नेता केवल चुनाव के समय दिखे इंसान
चुनाव जीतकर देष का रखे न कभी ध्यान।
कुर्सी व अपनी तिजोरी ही होती इनकी प्राण
लोकषाही आज बन गयी लूटेरों की जान।
-देवसिंह रावत
 www.rawatdevsingh.blogspot.com

No comments:

Post a Comment