बिजी जाओ बिजी ंप्रभु श्री ंबदरी केदार

बिजी जाओ बिजी ंप्रभु श्री ंबदरी केदार,
बिजी जाओ बिजी मेरा हरि को हरिद्वार,
गंगा माता रोणी च, रोणी यमुनां मायी
निरदयी कूपूतों लं ंयंख अनर्थ मचायंीं।
बिजी जाओ बिजी मेरा नरसिंह भगवान
बिजी जाओ बिजी मेरो भूमि को भूमियाल


बिजी जाओ बिजी मेरी माता सिंह भवानी
ंबिजी जाओ बिजी मेरा महाकाल भैरव,ं
तुमारी षरण आंयो देवभूमि उत्तराखण्ड
निषाचर बनी गेना राजनीति नेता
ंकोई नौछमी बनी के कोई बनी कलंक
कोई कालनेमी बनी कर मचैणियो च उधम,
अधम से अधम बनी देव भूमि लूटियोणा
त्राही त्राहीं कणियों च देवभूमि वासी
आओ मेरो ंवीर बजरंगी, आंओ ंमेरा ग्वैल
यों की ंलंका ढाह ं कर रक्षा करो महादेव
षराबी, दुराचारी ये च जातिवादी राक्षस
भ्रश्टाचारी बनी कर मचांईं च खुली लूट।
देवभूमि ंस्वंर्ग भूमि बणेल यों न नरक।
बिजी जाओ बिजी ंप्रभु श्री बदंरी केदार
देवसिंह रावत 17 सितम्बर 2011 प्रातः 8.17

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार