Pages

Tuesday, September 4, 2012


आओ  दीप आशा का जला कर जग रोशन करें




मित्र ये जिन्दगी जिंदा दिली का नाम है,
जो अन्याय को देख कर भी विरोध न करे
वो जग में मृतक ही नहीं घोर पातक भी है
आओ साथी मिल कर गीत कुरूक्षेत्र में गायें
अपने ही कामों से इस संसार को हसींन बनाये
बहुत ़झगड गये हैं जग से ताउम्र इन्हीं राहों में
आओ  दीप आशा का जला कर जग रोशन करें।।

देवसिंह रावत
(5 सितम्बर 2012, प्रातः 7.46 बजे)



No comments:

Post a Comment