Pages

Tuesday, September 4, 2012


राष्ट्र वही होता उन्नत समृद्ध जहां गुरूजन होते ऐसे श्रेष्ठ

शिक्षक दिवस पर किसको दिल का दर्दे हाल सुनाऊं
शिक्षा को व्यापार बना दिया है इस भ्रष्ट सरकारों ने 
देश के भविष्य को भी वंचित कर दिया दिव्य ज्ञान से 
शिक्षा को भी व्यापार बना कर देश को करते है तबाह
ऐसे दुशासनों को धिक्कार कर बचाओ भारत महान को
आओ ऐसा दिव्य दीप जलाये जो रोशन करे जग ज्ञान से
शिक्षा बने दिव्य ज्ञान का मंदिर बने न लूटरों की दुकान। 
शिक्षक बने रहे शिक्षक बने न कभी चाकर या दुकानदार।
शौभाग्यशााली रहे हम जीवन में, मिली गुरूजन की छाया
निस्वार्थ, समर्पित प्रेरणा पूंज के बन कर जग रोशन करते
नमन् उन्हें करता हॅू आज शिक्षक  दिवस के पावन पर्व पर
राष्ट्र वही होता उन्नत समृद्ध जहां गुरूजन होते ऐसे श्रेष्ठ
निष्पक्ष, ज्ञान के पूंज बन कर हरते अज्ञानता का ये तिमिर
राष्ट्र धन्य है जहां शिक्षक सदचरित्र ज्ञान के प्रखर सूर्य हो

-देवसिंह रावत

(शिक्षक दिवस 5 सितम्बर की प्रात 8.45 बजे, अपने दिव्य गुरू परम ब्रह्म श्री कृष्ण, माता पिता, प्रथम गुरू मुकुन्दराम सत्ती, सुरेशानन्द सत्ती, श्रीधर प्रसाद नागेन्द्र जी व बलवंत सिंह नेगी के साथ काला बाबा जी आदि गुरूओं का सादर स्मरण करते शतः शतः नमन् )

No comments:

Post a Comment