Pages

Thursday, May 19, 2011

खुदा की ऐसी मेहर

खुदा की ऐसी मेहर रही साथी,
हर तुफाने भंवर से बची मेरी कश्ती।
तुम मुस्कराते रहो इसी तरह,
हम हर सितम सह लेगें हंसते हंसते।।
देवसिंह रावत

No comments:

Post a Comment