Pages

Sunday, May 8, 2011

भारत में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं

भारत में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं

जिस देश में मातृ भाषाओं को रौंदते हुए फिरंगी भाषा की गुलामी की जाती हो, जिस देश में गौ माता का निर्ममता से कत्ल किया जाता हो, जिस देश में भारत माता से द्रोह करने वालों को सम्मान दिया जाता हो और जिस देश में धरती माता पर अवैध कब्जा करने वाले पाक व चीन को गले लगाया जाता हो, उस देश में मातृ दिवश मनाने का किसी को नैतिक हक नहीं है।-देवसिंह रावत www.rawatdevsingh.blogspot.com

No comments:

Post a Comment