Pages

Sunday, May 8, 2011

दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान

दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान
जिस देश में देशद्रोहियों का संरक्षण तथा अन्न उत्पादक किसानोें, मजदूरों व आम राष्ट्र भक्तों का दमन किया जाता है। उस देश को दूश्मनों की क्या जरूरत। उस देश के शासकों को एक पल भी सत्ता में रहने का नैतिक हक नहीं है।

No comments:

Post a Comment