दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान

दुश्मन से बदतर हुए हुक्मरान
जिस देश में देशद्रोहियों का संरक्षण तथा अन्न उत्पादक किसानोें, मजदूरों व आम राष्ट्र भक्तों का दमन किया जाता है। उस देश को दूश्मनों की क्या जरूरत। उस देश के शासकों को एक पल भी सत्ता में रहने का नैतिक हक नहीं है।

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार