Pages

Sunday, February 10, 2013




गायकी के 40 वर्ष पूरे होने पर महान लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी का दिल्ली में भव्य सम्मान 


उत्तराखण्डी जनता से जो लोकसम्मान मिला उसके आगे तमाम सरकारी सम्मान गौणः नेगी 

उत्तराखण्ड के सबसे बडे जन नायक बन कर उभरे है नरेन्द्रसिंह नेगी: डा गोविन्द सिंह 

नई दिल्ली(प्याउ)।‘ उत्तराखण्ड की महान जनता ने उनके गीतों को दिल में बसाते हुए उनको जो सम्मान दिया है, उस अपार सम्मान व स्नेह को पाने के बाद उनके मन में किसी प्रकार की सरकारी सम्मान पाने की एक रत्ती भी ललक नहीं है।  जो सम्मान उत्तराखण्ड की जनता से उत्तराखण्ड सहित देश विदेश में उन्हें मिला है उसके आगे कोई भी सरकारी सम्मान गौण है।’ यह दो टूक विचार उत्तराखण्ड गौरव से सम्मानित महान लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी ने उनकी  गायकी के 40 वर्ष पूरे होने पर देश की राजधानी दिल्ली में संसद भवन के समीप विख्यात कन्स्टीट्यूशन हाल में 10 फरवरी को आयोजित भव्य सम्मान समारोह में सम्मानित करने पर कही। इस कार्यक्रम का आयोजन अग्रणी समाजसेवी व उद्यमी डा विनोद बछेती ने दिल्ली पेरामेडिकल संस्थान के सहयोग से उत्तराखण्ड लोक भाषा  साहित्य मंच, दिल्ली द्वारा किया। इस अवसर पर कार्यक्रम का शुभारंभ पर डा गोविन्द सिंह की धर्मपत्नी, डा शेखर पाठक की धर्मपत्नी, लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी की धर्मपत्नी व श्रीमती गीता चंदोला के कर कमलों से दीप प्रज्जवलित करके किया गया।
अपने सम्मान से गदगद उत्तराखण्ड के स्वर सम्राट के नाम से ख्यातिप्राप्त नरेन्द्रसिंह नेगी ने कहा कि उन्होंने हमेशा उत्तराखण्ड की जनभावनाओं के सम्मान व हितों की रक्षा के लिए गीत गाये तथा प्रदेश की कोई भी सरकार रही हो जो जनहितों पर कुठाराघात करती हो तो उस पर उन्होंने अपने गीतों के माध्यम से करारा प्रहार करके बेनकाब करने का काम किया। इसी कारण न तो उनको कोई सरकार सरकारी सम्मान देगी व नहीं उनकी इन पुरस्कार को पाने की कभी भी तनिक सी भी लालशा रही।
इस अवसर पर उत्तराखण्ड के शीर्ष लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी ने इस अवसर पर ‘नरेन्द्रसिंह नेगी गीत यात्रा’ नामक पुस्तक का विमोचन भी किया गया।
इस अवसर पर ‘सुप्रसिद्ध लोकगायक नरेन्द्रसिंह नेगी की 40 वर्षीय गीत यात्रा ’ नामक विषय पर एक परिचर्चा भी आयोजित की गयी। परिचर्चा में देश के अग्रणी सामाजिक एवं रानैतिक समीक्षक प्रो. पुष्पेश पंत, देश के अग्रणी पत्रकार डा गोविन्द सिंह, दिल्ली सरकार में मुख्यमंत्री के अपर सचिव कुलानन्द जोशी, उत्तराखण्ड के जनांदोलनों से जुडे रहे प्रदेश के अग्रणी सीपीआई नेता समर भण्डारी व उत्तराखण्ड के जनांदोलनों से जुडे रहे प्रखर चिंतक डा शेखर पाठक ने श्री नेगी जी के इन 40 वर्षीय गीत यात्रा का गंभीरता से हर पहलुओं पर चर्चा करते हुए उनको उत्तराखण्ड का सच्चा संरक्षक व जननायक बताया।
इस समारोह के दूसरे सत्र में महान गायक नरेन्द्रसिंह नेगी व उपस्थित प्रबुद्ध जनमानस से से सीधे संवाद का आयोजन किया गया। इस जनसंवाद का संचालन  गणेश खुगशाल ‘गणी’ ने बखुबी से किया। श्री गणी ने नेगी जी के इन 40 सालों की विराट गीत यात्रा पर अनछुये पहलुओं पर सटीक सवाल किये जिसे नेगी जी ने बडे उत्साह के साथ हर सवाल का जवाब दिया। इसके साथ उन्होंने अपने जनता के दिलों को छूने वाले गीतों को लिखने के लिए प्रेरणा सुत्र आम जनता को बताया। लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी ने कहा कि उत्तराखण्डी गायकों के लिए किसी विद्यालय से अधिक सीख यहां की वादियों में जनता के नजदीक आंख कान खुले रखने से मिलेगी। उन्होंने कहा कि उनको गीत रचना में जो सहजता अपने पहाड में मिलती है वह उसे दिल्ली या देहरादून सहित देश प्रदेश में कहीं नहीं मिलती है। महान लोक गायक नरेन्द्र सिंह नेगी ने उत्तराखण्ड में शराब के खिलाफ व्यापक जनांदोलन चलाने की जरूरत पर विशेष जोर दिया। उन्होंने इस अवसर पर पौड़ी जिले के कई गांवों में महिलाओं द्वारा शादी विवाह आदि कार्यक्रमों में हो रही शराब की पार्टियों पर लगाये जा रहे प्रतिबंध को आज का नया सराहनीय आंदोलन बनाया।   शराब के खिलाफ महिलाओं द्वारा चलाये जा रहे इस प्रकार के आंदोलन से प्रेरणा लें। उन्होंने अफसोस प्रकट किया कि उनकी तरह ही प्रदेश के सैकडों लोगों पर शराब विरोध आंदोलन में फर्जी केश बना कर दण्ड का शिकार बनाया जाता हैं। श्री नेगी ने कहा कि जो लोग कहते हैं कि उनके सकारात्मक गीतों का वर्तमान व्यवस्था पर असर नहीं होता है, उनको नौछमी नारेण नामक गीत के बाद अब तक की किसी भी सरकार पर थोक के भाव में लालबत्तियां देने का साहस तक नहीं जुटा पाये है। यही जनता व उनके गीतों की जीत है। इस अवसर पर उन्होंने अपनी उत्तराखण्डी पहचान को छुपा कर अपने आप को देहरादून या शहरी बताने वाली नयी पीढ़ी को सीख देते हुए श्री नेगी ने कहा कि जन्म कहीं भी लेने या खान पान परिवेश बदलने पर भी हम उत्तराखण्डी ही होते है। इस अवसर पर श्री नेगी ने अपनी माॅं, अपनी पत्नी व जीवन से जुडे विभिन्न पहलुओं के प्रभाव में बने अपने कालजयी गीतों पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर उन्होंने उत्तराखण्ड राज्य आंदोलन, पर्यावरण, बुजुर्ग लोगों, महिलाओं सहित उत्तराखण्ड की हर क्षेत्र पर गाये गये अपने कालजयी गीतों की पृष्टभूमि पर भी प्रकाश डाला। इस अवसर पर उभरते हुए गायक विनायक असवाल ने नरेन्द्रसिंह नेगी के लोकप्रिय गीत ‘टिहरी डूबनों लगी गे बेटा, बांध का खातिर ....’ का बेहतर ढ़ंग से गायन किया।
इस अवसर पर महान लोकगायक नेगी जी व उनकी धर्मपत्नी श्रीमती उषा नेगी का भी विशेष रूप से सम्मानित किया गया। महान लोक गायक नरेन्द्रसिंह नेगी व श्रीमती नेगी के साथ साथ परिचर्चा में भाग लेने वाले प्रो. पुष्पेश पंत, डा गोविन्द सिंह, कुलानन्द जोशी, डा शेखर पाठक व समर भण्डारी का सम्मान करने वालों में श्रीमती व श्री डा विनोद बछेती, दुबई से पधारी गीता चंदोला, उत्तराखण्ड लोकभाषा साहित्य मंच के संयोजक दिनेश ध्यानी, अनिल पंत, जयपाल सिंह रावत, वेद विलास उनियाल, सतेन्द्र रावत, जगदीश नेगी व उर्मिलेश भट्ट आदि प्रमुख थे।
इस अवसर पर इस जनसम्मान से सम्मानित महान गायक नरेन्द्रसिंह नेगी व श्रीमती नेगी को बधाई देने वाले प्रमुख लोगों में उत्तराखण्ड गौरव से सम्मानित गायक हीरासिंह राणा, प्रसिद्ध गायिका कल्पना चैहान, संगीतकार राजेन्द्र चैहान, प्यारा उत्तराखण्ड के सम्पादक देवसिंह रावत, वरिष्ट पत्रकार विजेन्द्र रावत, मंजीत नेगी, एस एस नेगी, उद्यमी बी पी रतूडी, नौयडा के व्यवसायी शर्मा जी, चन्द्र मोहन ज्योति, समाजसेवी बृजमोहन उप्रेती व कर्ण बुटोला, कमला रावत, कलाकार नरेन्द्र पांथरी, साहित्यकार पूरण काण्डपाल, कवि पृथ्वीसिंह नेगी केदारखण्डी, विनोद नेगी, शिवचरण मुण्डेपी, हमर उत्तराखण्ड परिषद के अध्यक्ष मोहन बिष्ट, कैलाश बेलवाल, हिमांशु पुरोहित, भारत रावत एवं साथी प्रमुख थे।
 इस अवसर पर उपस्थित विशिष्ठ लोगों में वरिष्ट पत्रकार बनारसी सिंह, सुरेश नौटियाल, अभिनव कलुडा, दाता राम चमोली, समाजसेवी महेश चन्द्रा, वयोवृद्ध कांग्रेसी नेता सीएस पयाल व दीवान सिंह नयाल, महादेव प्रसाद बलूनी, संजय नौडियाल, रविन्द्रा चैहान, मोहन सिंह रावत, परमवीर सिंह रावत, बलबीर सिंह धर्मवान, किशोर रावत, जगदीश भट्ट, वेद भदोला, नीरज जोशी, प्रताप थलवाल, सहित बडी संख्या में गणमान्य लोग उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment