देश की सत्ता पर काबिज होने को उतारू हैं सीआईए, आईएसआई आदि विदेशी ताकतों के ऐजेन्टः बाबा रामदेव


 देश की सत्ता पर काबिज होने को उतारू हैं सीआईए, आईएसआई आदि विदेशी ताकतों के ऐजेन्टः बाबा रामदेव /
सुब्रमण्यम स्वामी ने किया भ्रष्टाचार के खिलाफ धर्म युद्व का ऐलान,/
 बाबा रामदेव ने किया 2020 तक भारत को विश्व की प्रथम महाशक्ति बनाने का ऐलान /
काले धन पर बाबा रामदेव,सुब्रमण्यम स्वामी, गोविन्दाचार्य और गुरुमूर्ति एक साथ/
काले धन पर संघ समर्थकों ने टीम अण्णा से बड़ी लकीर खिंचने के लिए "ACACI" धर्म युद्व का ऐलान/
नई दिल्ली से देवसिंह रावत
/
भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी जंग को निर्णायक दिशा देने के लिए संघ समर्थकों ने बाबा रामदेव के नेतृत्व व सप्रंग सरकार की चूलें हिलाने वाले सुब्रमण्यम स्वामी की अध्यक्षता में , टीम अण्णा की तर्ज पर ही एकशन कमेटी अगेन्सट करप्शन इन इंडिया ( ।ब्।ब्प्) का गठन किया।  देश की संसद के समीप खचाखच भरे  मावलंकर सभागार में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने हेतु अपनी नव गठित इस समिति के मार्गदर्शक के रूप में अपने संबोधन में काले धन के लिए राष्ट्रव्यापी ऐतिहासिक संघर्ष छेडने वाले बाबा रामदेव ने एक सनसनीखेज रहस्य उजागर करते हुए कहा कि देश में सीबीआई, आईएएसआई, केबीजी, मोसाद सहित विदेशी ताकतों के शिकंजे में बुरी तरह से जकड़ा हुआ है। ये विदेशी ऐजेन्ट इस देश की सत्ता पर काबिज होना चाहते है। इनके नामों का खुलाशा न करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि उनके पास इसके पुख्ता प्रमाण है। उन्होंने कहा कि वे भारत को 2020 तक अपने इस भ्रष्टाचार उन्मूलन अभियान से विश्व का विकसित देश ही नहीं अपितु विश्व की सबसे प्रथम महाशक्ति बनाना चाहता हॅू। उन्होंने देश के सर्वोच्च न्यायालय को इस बात के लिए बधाई दी कि उन्होंने देश की इस भ्रष्ट सरकार को पूरी तरह से 2जी घोटाले पर बेनकाब करने का साहसिक निर्णय दिया। उन्होंने दो टूक शब्दों में कहा कि देश की वर्तमान सप्रंग सरकार को देश में एक पल भी बने रहने का नैतिक हक खो दिया है। इस अवसर पर सुब्रमण्यम स्वामी की अध्यक्षता वाली ‘टीम अण्णा से मजबूत टीम का ऐलान ‘एकशन कमेटी अगेन्सट करप्शन इन इंडिया ( ।ब्।ब्प्) के नाम से किया गया। इस टीम के अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने खुद अपनी टीम के सदस्यों के नाम का ऐलान करते हुए दो टूक शब्दों में कहा कि वे केन्द्रीय गृहमंत्री सुब्रमण्यम स्वामी को 2जी घोटाले में जल्द ही आरोपी राजा के साथ जेल में बंद करायेंगे।  टीम के सदस्यों का परिचय कराते हुए श्री स्वामी जी ने कहा कि उनकी टीम में भारत के अग्रणी सामाजिक चिंतक व पुरोधा गोविन्दाचार्य, गुरूमूर्ति, भारतीय खुफिया ऐजेन्सी आईबी के पूर्व निदेशक अजीत डोभाल, ए .सूर्यप्रकाश ,वी.सुन्दरम ,सरयू राय , जे.गोपीकृष्ण आदि सदस्यों का भी परिचय कराया। समारोह में जहां बड़ी संख्या में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वयंसेवक, पत्रकार, समाजसेवी व विश्वहिन्दू परिषद के वरिष्ट पदाधिकारी पूर्व सांसद बैकुण्ठ लाल शर्मा (जो अब प्रेम सिंह के नाम से जाने जाते हैं ) सहित बड़ी संख्या में नौजवान व मातृ शक्ति विधमान थी। समारोह में जहां बाबा रामदेव की संस्था के जांबाज युवाओं ने कांस्टीटयूशन हाल में गत माह घटित हुए कालिख प्रकरण से सबक लेते हुए सुरक्षा का मजबूत घेरा बाबा के चारों तरफ ही नहीं अपितु पूरे सभागार में बनाया हुआ था। इसके अलावा दिल्ली पुलिस सहित सुरक्षा ऐजेन्सी के जांबाज भी पैनी नजर रखे हुए थे।

देश में पांच राज्यों की विधानसभा चुनाव के निर्णायक दौर में जब देश की लोकसभा के पांचवें हिस्से का प्रतिनिधित्व करने वाले उप्र के विधानसभा चुनाव की जंग लड़ी जा रही हो, उस समय बाबा रामदेव की अगुवायी में संघ समर्थकों ने सुब्रमण्यम स्वामी की अध्यक्षता में देश के अग्रणी राजनेतिक-सामाजिक व प्रबुद्व जनों की जो टीम बनायी, उसका लक्ष्य जहां देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को समूल नाश करना है वहीं आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का देश से पूरी तरह से सफाया करना भी साफ झलकता है। भले ही इस सम्मेलन में बाबा रामदेव व अन्य वक्ता कांग्रेस का नाम लेने से परहेज करते रहे परन्तु सबका निशाना अगर कोई था तो वह कांग्रेस ही था। बाबा रामदेव ने तो स्पष्ट कहा कि उनको इस बात से कोई शिकावा नहीं कि उन पर संघ का समर्थक होने का आरोप लगाया जाता है। उन्होंने साफ कहा कि वे भगवान राम व श्रीकृष्ण से प्रेरणा लेकर अन्यायी, भ्रष्टाचारी कुशासकों को देश से उखाड़ फेंक कर ही चैन लेंगे।
मावलंकर सभागार में बाबा रामदेव , सुब्रमण्यम स्वामी , गोविन्दाचार्य ,एस गुरुमूर्ति , अजीत डोभाल सहित कई बड़े दिग्गज ‘काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ ‘ एक साथ इस सम्मेलन में नजर आये । सभागार के बाहर-भीतर तकरीबन हजारों कार्यकर्ताओं की संख्या मौजूद थे। 2जी मामले में निरतंत बढ़ती गहमागहमी के कारण इस सम्मेलन में देश की मीडिया की उत्सुकता देखते ही बनती थी। यहां पर यह सभागार भी छोटा पडता नजर आया, खचाखच भरे इस सभागार में जगह न होने के कारण सैकड़ों लोगों को बाहर ही रहना पड़ा, इसके लिए स्वामी रामदेव ने खुद भी भविष्य में बड़ी जगह पर ऐसा सम्मेलन करने के भी संकेत दिये।
गौरतलब है कि 2जी मामले में 4 फरवरी को  ही दिल्ली के पटियाला कोर्ट ने सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका को खारिज करते हुए केन्द्रीय गृहमंत्री पी चिदंम्बरम को राजा की तरह सह आरोपी मानने से इंकार कर दिया। इस सम्मेलन में अपनी बात शरू करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि भले ही आज पी चिंदम्बरम जेल जाने से बच गये हों परन्तु जल्द ही वे उनको इस मामले में जेल भिजवा कर ही दंम लेंगे। अपनी बात पर जोर देते हुए श्री स्वामी ने कहा कि 122 कंपनियों को आवंटित लाइसेंस रद्द करने का मामला भी हाईकोर्ट ने ठुकरा दिया था लेकिन जब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो माननीय न्यायालय ने ऐतिहासिक फैसला दिया और न्याय की जीत हुई ।
स्वामी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रही लड़ाई को धर्म युद्ध बताते हुए कहा कि हमें ऐसा समाज बनाना है जहाँ राजा गलती करें तो जनता उसके कान पकड़ कर गद्दी से उतार सके ।

सभा में उमड़े जनसमुदाय को देख कर उत्साहित बाबा रामदेव ने कि आज यहाँ उपस्थित नागरिकों को हमने आमंत्रण भेजकर या व्यक्तिगत सूचना देकर नहीं बुलाया है बल्कि स्वर्णिम व सशक्त भारत के निर्माण में स्वतःस्फूर्त यहाँ पहुंचे हैं ।  इस पूरी जंग में सरकार की नियत और उसकी नीतियों के ऊपर देश के सर्वोच्च न्यायालय ने जो टिप्पणियाँ की है वो इस बात का प्रमाण है कि 1 लाख 76 हजार करोड का घोटाला हुआ था । अदालत ने 122 कंपनियों के लाइसेंस रद्द करने का आदेश देकर यह बता दिया है कि यह सरकार सत्ता में रहने का नैतिक अधिकार खो चुकी है ।
बाबा रामदेव ने 2 जी प्रकरण पर कांग्रेस गठबंधन सरकार द्वारा अपने पूर्ववर्ती वाजपेयी सरकार को इस विवाद के लिए जिम्मेदार ठहराने पर गहरा कटाक्ष करते हुए कहा कि सरकार में बैठे लोग कहते हैं स्पेक्ट्रम बाँटने की कानून कायदे पिछली सरकार ने बनाये थे । अगर पिछली सरकार ने कुछ गलत नियम बनाये थे तो आपने उसे बदला क्यों नहीं ?
    बाबा रामदेव ने दो टूक शब्दों में कहा कि यहां दाल में काला नहीं अपितु पूरी दाल ही काली ही नहीं पूरा का पूरा ही घोटाला ही है। अपने आक्रोश को दो टूक शब्दों में बयान करते हुए बाबा राम देव ने कहा कि जब सारी सरकार ही कटघड़े में खड़ी हो तब एक -दो मंत्रियों की बात नहीं यहाँ तो पूरा रास्ता ही साफ होना चाहिए । कांग्रेस का प्रत्यक्ष नाम न लेते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि लोकतंत्र और लोकतान्त्रिक संस्थाओं को एक राजनीतिक पार्टी ने बंदी बना कर रख दिया है ।  लाखों बलिदान के बाद मिली आजादी को बर्बादी बना कर रख दिया है । इस लोकतंत्र की हत्या करने वाले और जनता का पैसा लूटने वाली सरकार को हम बर्दाश्त करने वाले नहीं है । कंपनियों के लाइसेंस रद्द करने सम्बंधित अदालती फैसले पर टिप्पणी करते हुए बाबा ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के उन न्यायाधीशों का पूरे राष्ट्र की और से कृतज्ञता ज्ञापित करते हैं कि उन्होंने यह साहसपूर्ण निर्णय लिया ।

कार्यक्रम के दौरान मंच पर सुब्रमण्यम स्वामी के साथ गोविन्दाचार्य भी मौजूद थे और अंत में दर्शकों के विशेष आग्रह पर संघ के जनांदोलनों के प्रणेता गोविन्दाचार्य ने भी संक्षिप्त विचार प्रकट किये।  कार्यक्रम के दौरान काले धन और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर एक कमिटी ” ।ब्।ब्प् ;।बजपवद बवउउपजमम ंहंपदेज बवततनचजपवद पद प्दकपं द्धकी घोषणा भी की गयी । समारोह एक छोटे से बच्चे द्वारा संगीतमय वंदे मातरम के गायन के साथ समापन हुआ।
    भले ही मेरे बाबा रामदेव से उत्तराखण्ड की भ्रष्ट भाजपा सरकार पर शर्मनाक मूक रखने के कारण मैं उनके अभियान से शत प्रतिशत सहमत नहीं हॅू, परन्तु भारतीय संस्कृति के नवजागरण व देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके अभियान का मुक्त रूप से समर्थक होने के कारण मैं 4 फरवरी को उनके दिल्ली में आयोजित सम्मेलन में गया। यहां पर जाने का एक कारण मेरा भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक कानूनी जंग छेड़ने वाले सुब्रमण्यम स्वामी के विचारों को सुनना भी रहा। मेरे साथ श्रीकृष्ण विश्व कल्याण भारती के मोहन सिंह रावत, देश के अग्रणी चिंतक महेश चन्द्रा, प्रख्यात पत्रकार बनारसी सिंह, भाषा आंदोलन के पुरोधा पुष्पेन्द्र चैहान, समाजसेवी  रणजीत सिंह नेगी व परमवीर सिंह रावत भी थे।

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार