Pages

Monday, November 12, 2012


मेरे कृष्ण तुम एक ऐसा दीप जला दो 

हर घर आंगन में दीप खुशियों का जले
हर पल अधरों में खिले खुशियों के दीये
आंखों में दिखे कहीं भी न दुख के आंसू
खिले हर दिल खुशियों से इस जग में
मेरे कृष्ण तुम एक ऐसा दीप जला दो 
सकल सृष्टि को श्री से रोशन कर दो
-देवसिंह रावत 
(दीपावली, मंगलवार, 13 नवम्बर प्रातः 9.56 बजे)

No comments:

Post a Comment