Pages

Thursday, November 1, 2012


दैणा हुयां मनू रे 

दैणां हुयां अमेरिकी चम्पू मनू रे
दैणां हुयां अधखिचरों बंगाली रे
दैणां हुया पातर पुरूष रे
दैंणा हुयां यदुवंश का कलंक रे
दैंणा हुया माया की लाडली रे
दैंणा हुया जयचंद के कुपूतों रे
दैंणा हुयां नापाक के दलालों रे
दैंणा हुयां धन्ना सेठों का दलाल रे
दैणा हुयां भ्रष्ट रगोणी बगोणी रे
दैणां हुयां सूपनखा ताडिका रे
दैणा हुयां अंग्रेजो का गुलामों रे
दैणा हुयां भूत अवधूत  रे
दैणा हुयां कालनेमी बाबाओं रे
दैंणा हुयां चंगेजी एनजीओ रे
दैंणा हुयां धृतराष्ट्री कुपूतों रे
दैणा हुयां स्यां उत्तराखण्डी रे
देंणा हुयां मंहगाई के गणों रे
दैंणा हुंया जाति धर्म के मसाणों रे
दैणा हुयां शराब माॅं डूबियां रे
दैणां हुयां कमिशनखोर कीडो रे
दैणां हुयां नेताओं का चम्चो रें
दैणा हुया आत्मघाती मीडिया रे
दैणां हुयां भ्रष्टाचारी पंच प्रधान रे
दैणां हुयां स्यां सरकारी गणों रे
दैंणां हुूयां बेसुद नेता रे
सुण सुण सुण तुम आज रे
ना लूटा ना लूटा देश  रे
पंचकिला बूटों से तेरी आरती करोला रे
कलमुखडी तेरों हम सब करोला रे।।
-देवसिंह रावत
(2 नवम्बर 2012 प्रातः 9.20 बजे)

No comments:

Post a Comment