-राजधानी निर्माण हेतु केन्द्र सरकार द्वारा प्रदान की गयी धनराशि को गैरसेंण में खर्च करे बहुगुणा सरकार
गैरसंण के समर्थन में उतरे पूरे विश्व में रहने वाले लाखों उत्तराखण्डी 

उत्तराखण्ड राज्य गठन आंदोलन के अग्रणी संगठन उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा सहित तमाम आंदोलनकारी संगठनों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गैरसेंण में मंत्रीमण्डल की बैठक व विधानसभा का विशेष सत्र के आयोजन करने की घोषणा का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा से मांग की है कि केन्द्र सरकार द्वारा प्रदेश की स्थाई राजधानी बनाने के लिए प्रदान की गयी 80 करोड़ रूपये की धनराशि को अविलम्ब गैरसेंण में प्रदेश की स्थाई राजधानी की नींव रखने में खर्च करने का ऐतिहासिक कार्य करे।
उत्तराखण्ड राज्य गठन के लिए संसद पर छह साल का ऐतिहासिक सफल धरना आंदोलन करने वाले मोर्चा के अध्यक्ष देवसिंह रावत  ने मोर्चा के संयोजक सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता अवतार सिंह रावत व महासचिव जगदीश भट्ट के साथ संयुक्त अपील में कहा कि प्रदेश की जनता हर हाल में प्रदेश की राजधानी गैरसेंण में बनानी चाहती है। इसके लिए बाबा मोहन उत्तराखण्डी सहित अनैक सपूतों ने अपनी शहादत दी है।
मोर्चा के अध्यक्ष देवसिंह रावत ने कहा कि प्रदेश की इस महत्वपूर्ण मांग को पूरी करने के लिए उत्तराखण्डी संसार के हर जगह पर एकजूट हो कर प्रदेश सरकार पर दवाब डाल रहे है। उत्तराखण्ड मेें ही नहीं दिल्ली में रहने वाले 30 लाख उत्तराखण्डी समाज के अलावा  लखनऊ, मुम्बई, गुजरात, हरियाणा, पंजाब, चण्डीगढ़ के साथ अमेरिका सहित विदेशों में रहने वाले उत्तराखण्डी उत्तराखण्ड की स्थाई राजधानी गैरसेंण में बनाने के लिए निरंतर अपने स्तर से दवाब बना रहे है।
दिल्ली में उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलन के अग्रणी संगठनों की समन्वय समिति जिसमें उत्तराखण्ड जनता संघर्ष मोर्चा के देवसिंह रावत,  उत्तराखण्ड जनमोर्चा के जगदीश नेगी,, उत्तराखण्ड महासभा के हरिपाल रावत व उत्तराखण्ड राज्य लोकमंच बृजमोहन उप्रेती आदि प्रमुख हैं ने प्रदेश सरकार से प्रदेश की राजधानी गैरसेंण बनाने की पुरजोर मांग की। उन्होंने प्रदेश की बहुगुणा सरकार से अपील की कि राजधानी बनाने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा कई सालों से प्रदान की गयी 80 करोड़ की धनराशि अविलम्ब गैरसेंण में ही खर्च की जाय।
इस मामले में दिल्ली में उत्तराखण्ड आंदोलनकारी संगठनों व म्यर उत्तराखण्ड सहित अनैक सामाजिक संगठन मिल कर मजबूत आंदोलन करने के लिए मन बना चूके है। इस दिशा में मोर्चा के अध्यक्ष देवसिंह रावत ने राजधानी गैरसेंण के लिए समर्पित संगठन म्यर उत्तराखण्ड के अध्यक्ष मोहन बिष्ट व महासचिव सुदर्शन सिह रावत ने प्रदेश की स्थाई राजधानी गैरसेंण बनाने तथा प्रदेश में बड़े बांधों को बनाये जाने के विरोध में आंदोलन तेज करने का संकल्प लिया है। इसके लिए सभी सामाजिक संगठनों को भी इस आंदोलन से जोडा जा रहा है। आंदोलनकारियों ने प्रदेश के तमाम राजनैतिक दलों से पुरजोर अपील की कि प्रदेश के स्वाभिमान, विकास व लोकशाही के प्रतीक राजधानी गैरसेंण बनाने के महान कार्य में अपनी संकीर्ण राजनैतिक रोटियां सेंकने से दूर रहें। आंदोलनकारियों ने कहा जो भी इस मांग के साथ राजनैतिक खिलवाड़ करने की धृष्ठता करेगा उसका हस्र तिवारी, खण्डूडी व निशंक की तरह ही होगा। वहीं लखनऊ से भारत की लोक जिम्मेदार पार्टी के प्रमुख नेता अधिवक्ता दानसिंह रावल ने इस आंदोलन को अपना पूरा समर्थन देने का ऐलान किया है। श्री रावल के अनुसार मुम्बई, महाराष्ट्र, गुजरात ही नहीं लखनऊ में भी उत्तराखण्डी लगातार इस मांग को पूरी करने के लिए उत्तराखण्ड सरकार पर दवाब बनाये हुए है।

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार