Pages

Tuesday, May 8, 2012

 देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए आततायी विदेशी आक्रांता के तमाम प्रलोभन ठुकरा कर भी जीवन के अंतिम सांस तक संघर्ष करने वाले देश भक्तों के शिरोमणि महाराजा राणा प्रताप की पावन स्मृति को, भारत के गौरवशाली अतीत को विस्मृत करने वाले इस देश के सत्तालोलुपु मानसिंह से बदतर हुक्मरानों के खिलाफ देश के स्वाभिमान, संस्कृति व मानवीय मूल्यों की रक्षा के लिए निरंतर समर्पित संघर्ष पथ के राही की तरफ से शतः शतः नमन्।

No comments:

Post a Comment