देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए आततायी विदेशी आक्रांता के तमाम प्रलोभन ठुकरा कर भी जीवन के अंतिम सांस तक संघर्ष करने वाले देश भक्तों के शिरोमणि महाराजा राणा प्रताप की पावन स्मृति को, भारत के गौरवशाली अतीत को विस्मृत करने वाले इस देश के सत्तालोलुपु मानसिंह से बदतर हुक्मरानों के खिलाफ देश के स्वाभिमान, संस्कृति व मानवीय मूल्यों की रक्षा के लिए निरंतर समर्पित संघर्ष पथ के राही की तरफ से शतः शतः नमन्।

Comments

Popular posts from this blog

गुरू पूर्णिमा को शंकराचार्य माधवाश्रम जी महाराज का भव्य वंदन

-देशद्रोह से कम नहीं है शिक्षा का निजीकरण