Pages

Tuesday, April 3, 2012

हर सुबह मंगलमय हो आपकी


हर सुबह मंगलमय हो आपकी


हर सुबह मंगलमय हो आपकी
हर पल हो साथी मधुर मधुर
हर पल बरसे आप पर कृपा
हर हरि गोविन्द गोपाल की
ओंठों पर रहे सदा मुस्कान
जय जय करे सारा जहांन
हर जड़ चेतन के लिए रहे
तनमन आपका आठों याम।।
हर स्वप्न साकार हो आपके
हर सांसों में बसें रामकृष्ण।
देवसिंह रावत
(4 मार्च 2012  बुधवार, प्रातः7बज कर 48 मिनट )



No comments:

Post a Comment