हो हर दिन ऐसी शुभ प्रभात प्रभु


हो हर दिन ऐसी शुभ प्रभात प्रभु




जय जय जय श्रीकृष्ण कन्हैया,
जय जगतारक राम रमैया,
जय सिया राम चरण अनुरागी,
जय पवनपुत्र बजरंगबली।।
जय हरि हर बदरी केदारवासी,
 जय जगजननी मातु भवानी।
जय नरसिंह महाकाल भैरव,
 जय पतित पावनी गंगा यमुना।
जय देवभूमि जय भारत माता
जय दिव्य अमर ज्ञान का दाता।
हो हर दिन ऐसी शुभ प्रभात प्रभु
जग में ज्ञान प्रेम की बहे गंगा।
देवसिंह रावत
(शुक्रवार 6 अप्रैल 2012 प्रातः 7बज कर 37 मिनट)

Comments

Popular posts from this blog

>भारत रत्न, अच्चुत सामंत से प्रेरणा ले समाज व सरकार