Pages

Thursday, April 5, 2012

उत्तराखण्ड का अपमान करने से बाज आये बहुगुणा


उत्तराखण्ड का अपमान करने से बाज आये बहुगुणा/
सोनिया गांधी मांगे उत्तराखण्डियों से माफी/
परिसम्पतियों के बंटवारे के लिए उत्तर प्रदेश से उत्तराखण्ड का हक मांगने इस सप्ताह उत्तर प्रदेश गये उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा द्वारा दिया गया बहुत ही शर्मनाक बयान कि ‘मै उत्तराखण्ड का पंडित हॅू बडे भाई उप्र से भीख मांगने आया हॅू ’कहना   स्वाभिमानी सवा करोड़ उत्तराखण्डियों का ही नहीं अपितु उत्तराखण्ड राज्य गठन के लिए शहीद हुए आंदोलनकारियों की शहादत का भी अपमान है। इसके लिए कांग्रेस आला कमान उत्तराखण्डी जनता से माफी मांगे कि उन्होंने विजय बहुगुणा को मुख्यमंत्री बना कर न केवल उत्तराखण्ड की लोकशाही अपितु उत्तराखण्ड के स्वाभिमान को रौंदने का काम किया है। मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा को भले ही उनकी जाति के कारण ही मुख्यमंत्री पद पर कांग्रेस के संकीर्ण जातिवादी सोनिया के दरवारियों ने बनाया हो परन्तु मुख्यमंत्री की शपथ लेने के बाद वे जाति व क्षेत्र से उपर उठ कर सारे प्रदेश के मुख्यमंत्री है, उनका अपने आप को ब्राहमण बताना उत्तराखण्ड की लोकशाही का अपमान है। बहुगुणा के इस कथन को दैनिक जागरण ने प्रमुखता से अपने 5 अप्रैल 2012 को प्रकाशित किया है। गौरतलब है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के साथ ही मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने जिस प्रकार से मुजफरनगर काण्ड के अभियुक्त को न्यायिक विश्वासघात करने वालों को संवैधानिक पद पर नियुक्त किया और उत्तराखण्ड राज्य गठन जनांदोलन में गोली चला कर आंदोलनकारियों की हत्या करने वाले को अपना करीबी बना रखा है उससे उत्तराखण्ड की जनता कांग्रेस को धिक्कार रही है।

No comments:

Post a Comment